जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

सौंफ खाने से बढ़ती है आंखों की रोशनी! जानिए इस बात में है कितनी सच्चाई और क्या है इसे खाने के फायदे

नई दिल्ली। सौंफ (Fennel Seeds) के बीज, जिसे भारत में ‘सौंफ’ के नाम से जाना जाता है. सौंफ का इस्तेमाल भारत में कई सालों से किया जा रहा है. किसी भी खाने में स्वाद बढ़ाने से लेकर पाचन के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन छोटे बीजों के संभावित स्वास्थ्य लाभ भी हैं? कई बार यह भी दावा किया जाता है कि सौंफ़ खाने से आंखों की रोशनी बढ़ती हैं.आज हम इस दावे की सच्चाई जानने की कोशिश करेंगे. आइए जानें सौंफ खाने से क्या फायदा मिलता है.[relpsot]

सौंफ़ खाने से मिलते हैं कई सारे पोषक तत्व

सौंफ़ के बीज विटामिन सी, आयरन और पोटेशियम जैसे आवश्यक पोषक तत्वों का एक समृद्ध स्रोत हैं. ये पोषक तत्व आंखों के समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण हैं. विटामिन सी मोतियाबिंद और मैक्यूलर डिजनरेशन, दो सामान्य नेत्र रोगों के खतरे को कम करता है. आयरन आंखों के ऊतकों तक ऑक्सीजन पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जबकि पोटेशियम इंट्राओकुलर दबाव को नियंत्रित करने में मदद करता है. जिससे ग्लूकोमा जैसी स्थिति को रोका जा सकता है. इसलिए, अपने आहार में सौंफ के बीज शामिल करने से आपकी आंखों को सही ढंग से काम करने के लिए आवश्यक पोषक तत्व मिल सकते हैं.

सौंफ़ में सूजन-रोधी गुण होते हैं

आंखों में सूजन के कारण दृष्टि संबंधी कई समस्याएं हो सकती हैं, जिनमें सूखी आंखें, लालिमा और धुंधली दृष्टि शामिल हैं. सौंफ़ के बीज में शक्तिशाली सूजनरोधी गुण होते हैं जो इन लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं.

उम्र से संबंधित धब्बेदार अध: पतन (एएमडी) 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में दृष्टि हानि का एक प्रमुख कारण है. यह मैक्युला में कोशिकाओं के टूटने के कारण होता है, जो केंद्रीय दृष्टि के लिए जिम्मेदार है. हालांकि एएमडी का कोई ज्ञात इलाज नहीं है, लेकिन जीवनशैली में कुछ बदलाव और आहार संबंधी आदतें इसे रोकने में मदद कर सकती हैं. सौंफ़ के बीज, अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के साथ, मैक्युला में कोशिकाओं को क्षति से बचाने और एएमडी की प्रगति को रोकने में मदद कर सकते हैं. वे कैरोटीनॉयड का भी एक समृद्ध स्रोत हैं, जो आंखों के स्वास्थ्य में सुधार और एएमडी के जोखिम को कम करने के लिए जाना जाता है.

सौंफ़ के बीज में बीटा-कैरोटीन नामक यौगिक होता है. जो शरीर में विटामिन ए में परिवर्तित हो जाता है. रात में अच्छी दृष्टि बनाए रखने के लिए विटामिन ए महत्वपूर्ण है. क्योंकि यह आंखों को कम रोशनी की स्थिति में समायोजित करने में मदद करता है. नियमित रूप से सौंफ़ के बीज का सेवन करने से आपकी रात की दृष्टि में सुधार हो सकता है और आपके लिए अंधेरे में नेविगेट करना आसान हो सकता है.

जबकि कुछ अध्ययनों ने आंखों के स्वास्थ्य पर सौंफ के बीज के संभावित लाभों को दिखाया है. कोई भी ठोस वैज्ञानिक प्रमाण इस दावे का समर्थन नहीं करता है कि वे आंखों की रोशनी में सुधार कर सकते हैं. अधिकांश शोध जानवरों पर या इन विट्रो अध्ययनों पर किया गया है, और निश्चित निष्कर्ष निकालने के लिए अधिक मानव परीक्षणों की आवश्यकता है. इसके अलावा, आंखों की रोशनी एक जटिल प्रक्रिया है जिसमें आनुवंशिकी, उम्र और जीवनशैली की आदतों जैसे विभिन्न कारक शामिल होते हैं. आंखों की रोशनी में उल्लेखनीय सुधार के लिए अकेले सौंफ के बीज का सेवन पर्याप्त नहीं हो सकता है.

Share:

Next Post

साल 2024 में कब-कब है शादी के शुभ मुहूर्त, जानें डेट और तिथियां

Sat Dec 9 , 2023
मुंबई। विवाह 16 संस्कारों में से एक है. हिंदू धर्म में विवाह की तारीख,मुहूर्त और तिथियां देखकर तय की जाती है ताकि वर-वधु का दांपत्य जीवन शुभ और मंगलमयी हो. शुभ मुहूर्त में की गई शादियों से नए दंपत्ति को सौभाग्य की प्राप्ति होती है. सनातन धर्म में आज भी विवाह को पवित्र कर्म कांड […]