देश

झारखंड के इस स्कूल में हेलमेट लगाकर पढ़ाई करते हैं बच्चे, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

जमशेदपुर (Jamshedpur)। हेलमेट (helmet) हमारे जीवन की रोजमर्रा की चीजों में से एक बन गया है. हेलमेट (helmet) हमारी जान का रक्षक तो है ही, साथ ही हेलमेट आपको मोटे चालान (rough invoices) से भी बचाता है. आपने अक्सर बाइक चलाते (riding a bike) हुए लोगों के सिर पर या फिर क्रिकेट खेलते खिलाड़ियों के सिर पर हेलमेट देखा होगा.लेकिन सोशल मीडिया (social media) पर वायरल हो रहे एक वीडियो में कॉलेज के बच्चों (college kids) को सिर पर हेलमेट लगा कर पढ़ाई करते हुए देखा जा सकता है. वीडियो देख कर आप हैरान हो सकते हैं, लेकिन इसके पीछे की वजह बड़ी दुखी करने वाली है.आइए आपको बताते हैं क्या है इसके पीछे की वजह।


दरअसल, वायरल हो रहा वीडियो झारखंड (Jharkhand) के जमशेदपुर (Jamshedpur) का है, यहा की कोल्हान यूनिवर्सिटी के वर्कर्स कॉलेज (Workers College of Kolhan University) की इमारत इतनी जर्जर है कि यहां आए दिन बिल्डिंग की छत का कुछ ना कुछ हिस्सा गिरता ही रहता है.​ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार हाल ही में क्लास रूम की छत का प्लास्टर गिर गया था,​ हालांकि इससे कोई हताहत नहीं ​हुआ था. बस इसी वजह से इस कॉलेज के बच्चे सिर पर हेलमेट पहन कर क्लास अटेंड करने आते हैं।

65 साल पुराना है कॉलेज
कोल्हान यूनिवर्सिटी के इस कॉलेज की स्थापना आज से करीब 65 साल पहले 1959 में हुई थी. उस समय यह कॉलेज झारखंड के अच्छे कॉलेजों में शुमार था, लेकिन विकास न होने के कारण यह कॉलेज काफी ज्यादा पिछड़ गया. फिलहाल कॉलेज प्रशासन ने क्लासरूम को लॉक कर दिया है और छात्रों को सुरक्षा नियम बरतने की चेतावनी दी है. छात्रों का कहना है कि इस मामले में कई बार कॉलेज प्रबंधन को शिकायत की गई है, लेकिन उन की तरफ से कोई कार्यवाही नहीं की गई है. वायरल वीडियो में कॉलेज की दिवारों पर उखड़े हुए प्लास्टर को देखा जा सकता है. क्लास रूम की दीवारें भी जर्जर दिखाई पड़ रही है।

Share:

Next Post

पाकिस्तान की एयरलाइंस के निर्देश, चालक दल के सदस्य ड्यूटी के दौरान न रखें रोजा

Fri Mar 15 , 2024
इस्लामाबाद (Islamabad)। पाकिस्तान (Pakistan ) की राष्ट्रीय एयरलाइंस कंपनी (National Airlines Company) पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (Pakistan International Airlines) ने अपने पायलट और चालक दल के सदस्यों (pilots cabin crew ) से कहा है कि वह रमजान (Ramadan) के महीने में ड्यूटी के दौरान रोजा नहीं रखें. पीआईए ने इसके पीछे का कारण भी बताया है. […]