खेल

IPL 2024 : ऋषभ पंत ने एक बैन के बाद जताया दुख, खूब सुर्खिया बटोर रहा उनका क्रिप्टिक पोस्ट

नई दिल्ली (New Delhi)। दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) के कप्तान ऋषभ पंत (Captain Rishabh Pant) का एक क्रिप्टिक पोस्ट (cryptic post) इस समय सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियां बटोर रहा है। यह पोस्ट पंत ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु वर्सेस दिल्ली कैपिटल्स (Royal Challengers Bangalore vs Delhi Capitals) आईपीएल 2024 (IPL 2024) के 62वें मैच से पहले किया था। दोनों ही टीमों के लिए यह मस्ट विन गेम था। हालांकि एक मैच के बैन के चलते डीसी के नियमित कप्तान ऋषभ पंत इस मैच में हिस्सा नहीं ले पाए थे। बीसीसीआई ने इस सीजन तीसरी बार स्लो ओवर रेट के चलते डीसी के कप्तान पंत पर एक मैच का बैन लगाया था। पंत के इस पोस्ट को फैंस उनके एक मैच के बैन के साथ जोड़कर देख रहे हैं।


मैच से कुछ घंटे पहले, पंत ने एक इंस्टाग्राम पोस्ट शेयर किया और कैप्शन लिखा: “ज्यादा कुछ नहीं कह सकता”। पंत ने सर्दियों की सुबह की एक धुंधली तस्वीर अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर शेयर की थी, जिसमें लिखा था – “ब्रह्मांड में एकमात्र चीज जिस पर हमारा अधिकार है, वह हमारे अपने विचार हैं।”

बता दें, ऋषभ पंत की गैरमौजूदगी में आरसीबी के खिलाफ अक्षर पटेल ने दिल्ली कैपिटल्स की कमान संभाली थी। पटेल ने टॉस के दौरान बताया था कि ऋषभ पंत इस बैन के बाद काफी गुस्से में थे। अक्षर पटेल ने टॉस के दौरान रवि शास्त्री से कहा था, “बैन होने पर ऋषभ पंत गुस्सा था। गेंदबाज लेट करते हैं और कप्तान को सजा मिलती है। पंत ने अंपायर से बैन के खिलाफ अपील भी की थी। वह अब मैदान पर हैं, प्रेरित हैं और उन्होंने हमसे कहा है कि ऐसा महसूस न करें कि वह हमारे साथ नहीं हैं और प्रक्रिया पर ध्यान केंद्रित करें।”

बात मुकाबले की करें तो आरसीबी ने इस मैच में डीसी को 47 रनों से धूल चटाकर अपनी प्लेऑफ की उम्मीदों को और बढ़ा दिया है। बेंगलुरु ने इस मैच में पहले बैटिंग करते हुए 187 रन बोर्ड पर लगाए थे, जिसके जवाब में दिल्ली की पूरी टीम 140 रन पर ही ढेर हो गई। आरसीबी ने यह मैच 47 रनों से अपने नाम किया।

Share:

Next Post

लोकसभा चुनाव: क्या इंदौर में नोटा रच पाएगा इतिहास, भाजपा के गढ़ में काम करेगी कांग्रेस की अपील

Mon May 13 , 2024
इंदौर। इंदौर (Indore) पहली बार 13 मई को भाजपा (BJP) और कांग्रेस (Congress) समर्थित ‘नोटा’ (NOTA) के बीच होने वाले चुनावी मुकाबले (election contests) का गवाह (Witness) बनेगा। अपने प्रत्याशी अक्षय कांति बम (Akshay Kanti Bam) के नाम वापस लेने के बाद कांग्रेस का कोई सूरमा मैदान में नहीं है। अब कांग्रेस ने लोगों से […]