बड़ी खबर

11 मार्च को अजमेर जिले से शुरू होगा किसानों का ट्रैक्टर कूच


जयपुर । किसानों का ट्रैक्टर कूच (Farmers’ Tractor March) 11 मार्च को (On March 11) अजमेर जिले से (From Ajmer district) शुरू होगा (Will Start) । टोंक जिले से 106 ट्रैक्टरों से जयपुर कूच किया गया था, जिन्हें पुलिस थाना बरौनी के क्षेत्र में रोकने पर पड़ाव डाला गया, जो रात के 12:30 बजे तक चला।


किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट एवं अजमेर जिले के महामंत्री रामेश्वर कटसूरा की गिरफ्तारी के कारण 21 फरवरी को अजमेर जिले से ट्रैक्टर कूच नहीं हो सका था। अब वही कूच 11 मार्च सोमवार को अजमेर जिले से शुरू होगा, जिसमें अजमेर, दूदू एवं जयपुर जिले के किसान ट्रैक्टर से जयपुर पहुंचेंगे। पुलिस कमिश्नर जयपुर को स्थान उपलब्ध कराने के लिए युवा प्रदेश महामंत्री पिंटू यादव एडवोकेट द्वारा आवेदन भेजा गया है।

राजस्थान के किसानों ने न्यूनतम समर्थन मूल्य के कानून हेतु आर-पार की लड़ाई की घोषणा की हुई है। इसके लिए ट्रैक्टरों से जयपुर पहुंचने का किसानों का संकल्प अटल है। यदि इस प्रकार के आंदोलन को सरकार ने दबाने या कुचलने या रोकने का तानाशाही ढंग से प्रयास किया तो राजस्थान के 45000 गांवों को बंद का आवाहन किया जाएगा। इसके तहत किसान अपने गांव में ही रहेंगे। आपातकालीन स्थिति को छोड़कर कोई यात्रा नहीं करेगा। जिनको अनाज, दूध एवं सब्जी जैसे सामान चाहिए तो उन्हें गांव में आकर ले जाने होंगे।

इस क्रम में 22 फरवरी को शहीद स्मारक किसान महापंचायत के पदाधिकारी ने धरना कर सरकार को संकेत दे दिया। 23 फरवरी को जयपुर जिले के शाहपुरा में प्रमुख किसान प्रतिनिधियों की बैठक हो चुकी है। 24 फरवरी को जयपुर जिले के फुलेरा तहसील, 25 फरवरी को जोधपुर संभाग, 26 फरवरी को ब्यावर जिले के जैतारण एवं ब्यावर, 27 फरवरी को अजमेर जिला मुख्यालय, किशनगढ़ एवं नसीराबाद तहसील, 28 फरवरी को अराइ तहसील, 29 फरवरी को दूदू जिले की मौजमाबाद एवं दूदू तहसील, 1 मार्च को बगरू तहसील, 2 मार्च को टोंक के जिला मुख्यालय, तहसील उनियारा एवं उप तहसील बनेठा, 3 मार्च को सवाई माधोपुर जिला मुख्यालय एवं तहसील खंडार, 4 फरवरी को तहसील लालसोट एवं जिला मुख्यालय दौसा में विभिन्न कार्यक्रम होंगे।

इस कार्यक्रम के संयोजक प्रदेश मंत्री बत्ती लाल बैरवा एवं युवा प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर चौधरी रहेंगे। इसी प्रकार के कार्यक्रम कोटा संभाग में प्रदेश संयोजक सत्यनारायण सिंह तथा जिला कोटपूतली -बहरोड, अलवर, खैरथल, भरतपुर में प्रदेश अध्यक्ष मुसद्दीलाल यादव, सीकर संभाग में प्रदेश महामंत्री सुंदरलाल भावरिया, दूदू एवं जयपुर जिले के लिए राष्ट्रीय उपाध्यक्ष घासीराम फगोडिया एवं प्रदेश महामंत्री जगदीश नारायण के भी जन जागरण के कार्यक्रम तैयार किए गए हैं। राज्य मुख्यालय जयपुर में प्रोफ़ेसर गोपाल मोदानी, पूर्व युवा अध्यक्ष रामलाल घोसल्या एवं पिंटू यादव एडवोकेट इस सम्पूर्ण कार्यक्रम के संचालन का दायित्व निभाएंगे।

उल्लेखनीय है कि राजस्थान कृषि उपज मंडी 1961 एवं राजस्थान कृषि उपज मंडी 1963 में संशोधन के द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम दामों में क्रय–विक्रय को रोकने के लिए मंडियों में नीलामी बोली न्यूनतम समर्थन मूल्य से आरम्भ कर किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य की प्राप्ति की सुनिश्चित्ता के लिए राजस्थान राज्य कानून बना सकता है। इसी के लिए भारत सरकार द्वारा 17 वर्षो के विचार मंथर ले उपरांत आदर्श कृषि उपज एवं पशु धन विपणन (सुविधा एवं सवर्धन) अधिनियम 2017 का प्रारूप तैयार कर वर्ष 2018 में सभी राज्यों को प्रेषित कर दिया था। उसी के आधार पर राजस्थान में वर्ष 2018 में विधेयक का प्रारूप तैयार हो गया था जो सरकार की आलमारी में बंद है।

Share:

Next Post

तेजस्वी यह समझ लें कि काठ की हांडी बार-बार नहीं चढ़ती : प्रशांत किशोर

Sat Feb 24 , 2024
पटना । चर्चित चुनावी रणनीतिकार (Famous Election Strategist) प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) ने कहा कि तेजस्वी (Tejaswi) यह समझ लें कि (Should Understand that) काठ की हांडी (Wooden Pot) बार-बार नहीं चढ़ती (Does Not Boil Again and Again) । जनसुराज यात्रा के जरिए बिहार की राजनीति में पैर जमाने की कोशिश में जुटे चर्चित चुनावी […]