बड़ी खबर व्‍यापार

LPG Gas Cylinder : सिर्फ 9 रुपये में मिलेगा 809 रुपये वाला LPG सिलेंडर! ऐसे उठाएं फायदा

नई दिल्ली। गैस सिलेंडर (LPG Gas Cylinder) की कीमतों में लगातार तेजी देखने को मिल रही है. ऐसे में आपके पास सिर्फ 9 रुपये में सिलेंडर खरीदने का मौका है. बता दें पेटीएम की तरफ से ग्राहकों के लिए यह खास ऑफर निकाला गया है. आप 30 अप्रैल 2021 तक इस ऑफर का फायदा ले सकते हैं यानी आपके पास सिर्फ 10 दिन का समय बचा है तो फटाफट गैस बुक कर दें. पेटीएम ने इस ऑफर का नाम ‘फर्स्ट टाइम’ दिया है. आइए आपको बताते हैं कि आप कैसे 9 रुपये में गैस सिलेंडर बुक कर सकते हैं-

इस ऑफर का फायदा सिर्फ वही ग्राहक ले सकते हैं जो पहली बार पेटीएम ऐप के जरिए गैस बुकिंग कर रहे हैं. जब आप गैस बुकिंग के लिए पेमेंट करेंगे तब आपको 800 रुपये वाला स्क्रैच कार्ड मिलेगा. इसमें आपको 10 रुपये से लेकर 800 रुपये तक का कैशबैक मिलेगा.

Paytm पर ऐसे मिलेगा कैशबैक ऑफर
>>सबसे पहले आपको अपने मोबाइल फोन में Paytm App को डाउनलोड करना होगा.
>>इसके बाद अपनी गैस एजेंसी से सिलेंडर बुकिंग करनी होगी.
>>इसके लिए Paytm ऐप में Show more पर जाकर क्लिक करें
>>अब Recharge and Pay Bills पर क्लिक करें.
>>इसके बाद आपको book a cylinder का विकल्प दिखेगा.
>>यहां जाकर आप अपने गैस प्रोवाइडर को सेलेक्ट करें.
>>बुकिंग से पहले आप FIRSTLPG का प्रोमो कोड डालना होगा.
>>बुकिंग के 24 घंटे के भीतर आपको कैशबैक का स्क्रैच कार्ड मिल जाएगा.
>>इस स्क्रैच कार्ड को 7 दिनों के भीतर इस्तेमाल करना होगा.

पहले भी कई बार मिल चुके हैं ऑफर
Paytm पहली बार अपने ग्राहकों को ऐसा ऑफर नहीं दे रही है बल्कि इससे पहले भी पेटीएम LPG गैसे बुकिंग पर ऑफर पेश करने का काम कर चुकी है. इससे पहले ग्राहकों को कंपनी बुकिंग पर 700 रुपये तक और 500 रुपये तक कैशबैक दे रही थी. इस बार Paytm की ओर से ग्राहकों को 809 रुपये में मिलने वाले LPG गैस सिलेंडर पर 800 रुपये का कैशबैक दिया जा रहा है.

Next Post

MP Government पर HC की तल्ख टिप्पणी, 'हालात भयावह, हम मूकदर्शक नहीं बने रह सकते'

Tue Apr 20 , 2021
जबलपुर। एमपी हाईकोर्ट ने राज्य सरकार पर तल्ख टिप्पणी की है। हाईकोर्ट ने मरीजों को इलाज और अस्पतालों में बदइंतजामी को लोग एमपी को सरकार को फटकार लगाई है। 49 पन्नों के अपने फैसले में हाईकोर्ट ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के हालात भयावह हैं और ऐसे हालात में हाईकोर्ट मूकदर्शक बनकर […]