बड़ी खबर

रेलवे फिर शुरू कर रही E-Catering की सुविधा, सीट पर ही मिलेगा मनपसंद खाना


नई दिल्ली।  ट्रेनों में ई-कैटरिंग की सुविधा यात्रियों को फिर से रेलवे शुरू करने जा रहा है. रेल मंत्रालय ने इसके लिए IRCTC को परमिशन दे दी है. यानी अब फिर से ट्रेनों में सफर के दौरान यात्रियों को ऑर्डर बुक करने पर खाना मिल सकेगा. इसकी शुरुआत देश के कुछ चुनिंदा रेलवे स्टेशनों से की जा रही है. कोरोना काल के दौरान ये सेवा बंद कर दी गई थी.

मनपंसद खाना मिल सकेगा
आईआरसीटीसी की इस सुविधा के माध्यम से यात्री ऑनलाइन ही पसंदीदा रेस्टोरेंट से अपना खाना ऑर्डर कर सकते है. ऑर्डर करने के समय यात्रियों को यह बता दिया जाएगा कि उनका किस स्टेशन पर और कितनी देर में पहुंचेगा. यात्री को कहीं जाने की जरूरत नहीं होगी. खाने को उनके सीट पर डिलीवर किया गया जाएगा.

रेल मंत्रालय ने दी परमिशन
आईआरसीटीसी द्वारा अधिकृत ई-कैटरिंग सर्विस रेल रेस्ट्रो को रेल मंत्रालय ने इसके लिए परमिशन दे दी है. रेल रेस्ट्रो जनवरी 2021 के अंतिम सप्ताह से काम शुरू करने को तैयार है. इसके लिए कंपनी ने सख्त दिशानिर्देश दिए हैं, जिसमें परिचालन के दौरान कई बार रेस्तरां के कर्मचारियों और डिलीवरी कर्मियों की थर्मल स्कैनिंग, नियमित अंतराल पर रसोई की सफाई, रेस्तरां के कर्मचारियों और डिलीवरी कर्मियों द्वारा सुरक्षात्मक फेस मास्क या फेस शील्ड का उपयोग शामिल है.

रेलवे ने जारी किए दिशानिर्देश
डिलीवरी स्टाफ के लिए दिशानिर्देश भी अच्छी तरह से निर्धारित किए गए हैं और उनका पालन किया जाना है. इनमें हाथ धोने के बाद ही ऑर्डर लेना, डिलीवरी कर्मियों द्वारा ‘आरोग्य सेतु’ ऐप का अनिवार्य इस्तेमाल, जीरो ह्यूमन कॉन्टैक्ट सुनिश्चित करने के लिए कॉन्टैक्टलेस डिलीवरी, प्रोटेक्टिव फेस मास्क या कवर का लगातार इस्तेमाल और डिलीवरी के बाद डिलीवरी बैग का सैनिटाइजेशन शामिल है. हालांकि रेलवे की साधारण कैंटीन सेवा का लाभ तभी मिल सकेगा, जब सभी ट्रेनें पहले की तरह चलने लगेंगी.

Next Post

विश्व में कोरोना से बीस लाख लोगों की मौत

Sat Jan 16 , 2021
जिनेवा । वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Global pandemic corona virus) से निजात पाने के लिए विश्व के कई देशों में जारी कोरोना टिकाकरण (Corona hinges) की प्रक्रिया के बीच इस महामारी के कहर से विश्व में बीस लाख से अधिक लोगों की मौत हो गई है। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग […]