बड़ी खबर

इन विभागों के रिटायर्ड कर्मियों को अब Publication से पहले लेनी होगी इजाजत, रुक सकती है पेंशन

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने बुधवार को सरकारी नौकरी से रिटायर हो चुके कर्मचारियों के लिए नया नियम लागू किया है। इस नियम के तहत खुफिया और सुरक्षा संबंधी विभागों से जुड़े रहे रिटायर्ड कर्मचारियों को अब किसी भी प्रकाशन यानी कि लेख या किताब लिखने से पहले अपने मूल विभाग के प्रमुख से इजाजत लेनी होगी।

विभाग अध्यक्ष से इजाजत जरूरी
कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) की ओर से जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि रिटायमेंट के बाद किसी भी प्रकाशन से पहले इन विभागों के कर्मचारियों को अपने HOD से अनुमति लेनी होगी। किसी भी तरह की संवेदनशील सूचना को अब अपनी मर्जी से प्रकाशित नहीं किया जा सकता, उसकी जांच होना जरूरी हो गया है।

केंद्र सरकार की ओर से 31 मई को जारी इस अधिसूचना में कहा गया है कि विभाग से जुड़ी किसी जानकारी, किसी व्यक्ति के पद या उससे जुड़ी सूचना के अलावा विभाग में रहने के दौरान ज्ञात जानकारी या विशेषताओं के बारे में प्रकाशन से पहले उस विभाग के प्रमुख की अनुमित लेनी पड़ेगी। यह आदेश 31 मई के गजट के साथ ही लागू हो गया है।

शर्तें तोड़ने पर रुकेगी पेंशन?
आदेश के मुताबिक विभाग के प्रमुख के पास किसी भी लेख या किताब को लेकर यह तय करने का अधिकार होगा कि सामग्री संवेदनशील है या नहीं। एक फॉर्म 26 अंडरटेकिंग के तौर पर कर्मी को देना होगा। इसमें कहा गया है कि अगर रिटायरमेंट के बाद वह अंडरटेकिंग की शर्तों को तोड़ते हैं तो उनकी पेंशन भी रोकी जा सकती है।

Next Post

Kailash, Sindhiya और Uma की प्रदेश में बढ़ी सक्रियता

Wed Jun 2 , 2021
मेेल-मुलाकातोंं की वजह से सुर्खिया में विजयवर्गीय भोपाल। भाजपा (BJP) के राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजयर्गीय (National General Secretary Kailash Vijayargiya) पिछले एक हफ्ते से प्रदेश की सियायत में खासे सक्रिय हैं, उनकी इस सक्रियता से सियासत में नई अटकलें शुरू हो गई हैं। लंबे समय बाद प्रदेश कार्यालय से शुरू हुआ पार्टी नेता एवं कार्यकर्ताओं […]