मनोरंजन

बॉलीवुड में काम के लिए तरस रही स्वरा भास्कर, बोली मुस्लिम लड़के से शादी करने पर उन्हें ट्रोल…

मुंबई (Mumbai) एक्ट्रेस स्वरा भास्कर (swara bhaskar) अपने बेबाक बयानों और इसी तरह व्यंग्यात्मक पोस्ट के लिए जानी जाती हैं। कई बार उन्हें इसके लिए ट्रोलिंग का भी सामना करना पड़ा है, लेकिन ट्रोलर्स की परवाह किए बिना स्वरा भास्कर ने हमेशा वही व्यक्त किया है, जो वह महसूस करती हैं। स्वरा भास्कर ने फहद अहमद से शादी की। दोनों की एक बेटी भी है। मुस्लिम लड़के से शादी करने पर उन्हें ट्रोल भी किया गया था। ऐसे में स्वरा ने हाल ही में एक खास भूमिका निभाई है।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Swara Bhasker (@reallyswara)


स्वरा ने एक इंटरव्यू में कहा, मान लीजिए कि युद्ध हो और मुझे गोली मार दी जाए, तो मैं इसे सहने के लिए तैयार हूं। जब आपको वास्तव में गोली मार दी जाती है, तो आपको परिणाम भुगतना पड़ता है। मेरी बेटी राबिया के जन्म से पहले अभिनय मेरा पहला प्यार था। मुझे अभिनय करना, अलग-अलग भूमिका निभाना पसंद था। मुझे उतने मौके नहीं मिले। मुझे विवादास्पद अभिनेत्री का टैग मिला। मुझे लगता है कि यह मेरी अपनी बेबाकी और साहसिक बयानों के कारण था। जब ऐसी छवि बने तो क्या करें? मैं कभी भी वह होने का दिखावा नहीं कर सकता जो मैं नहीं हूं। अगर मुझे वह काम नहीं मिलता जो मुझे करना पसंद है तो यह बहुत दुखद है। स्वरा ने ये राय जाहिर की है।”

 

स्वरा ने कहा, “कई लोगों को मुझसे शिकायत है। मैं कई लोगों को पसंद या नापसंद कर सकती हूं। बहुत से लोग मुझसे नफरत करते हैं, लेकिन मैं सबके साथ समान व्यवहार करती हूं। अगर मैंने समय-समय पर खुद को व्यक्त नहीं किया होता तो शायद मेरा दम घुट जाता। मैं कभी भी ऐसा होने का दिखावा नहीं करूंगी जो मैं वास्तविक जीवन में नहीं हूं।”

इसके बाद स्वरा ने कहा, “खुलकर बोलना, अपने विचार व्यक्त करना मेरा फैसला है। पद्मावत में जौहर के सीन के बाद मुझे खुला पत्र लिखने की जरूरत नहीं पड़ी। मैं शांत नहीं बैठी क्योंकि यह मेरे स्वभाव में नहीं है।”



स्वरा फिल्म ‘जहां चार यार’ में नजर आईं। फहद अहमद ने इस बारे में क्या कहा? जब उनसे इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने मुझसे कहा कि इस फिल्म में आपका रोल आपके स्वभाव के विपरीत है। आपको और अधिक काम करना चाहिए। अब आप कई चीजों पर चुप रहते हैं, ताकि अच्छा काम कर सकें। मैं उसकी बात सुनकर संतुष्ट हो गया। मैंने कभी अपने माता-पिता से भी यह दुख जाहिर नहीं किया कि फिल्म को उतनी कमाई नहीं मिली, जितनी मिलनी चाहिए थी।

Share:

Next Post

बुझो तो जाने — आज की पहेली

Tue Jun 18 , 2024
18 जून 2024 1. मोटी घनी पूंछ, पीठ पर काली-काली रेखा हैं। दोनों हाथों में उसको मैंने फल खाते देखा है। उत्तर. ….गिलहरी 2. एक थाल मोतियों से भरा, सबके सिर पर उलटा धरा। चारों ओर वो थाल फिरे, मोती फिर भी एक न गिरे। उत्तर. ……तारे 3. मैं लम्बा-पतला विद्वान, पहनें लकड़ी का परिधान। […]