बड़ी खबर

उच्च शिक्षा के लिए अमेरिका जाने वाले भारतीयों की संख्या में 35 फीसदी वृद्धि, चीन पिछड़ा

नई दिल्‍ली (New Delhi) । भारतीयों और खासतौर से छात्रों को पढ़ाई (Indian Students) के लिए अमेरिका (America) काफी भा रहा है। हाल ही में सामने आए आंकड़ों से ऐसे संकेत मिले हैं। उच्च शिक्षा (Higher education) के लिए अमेरिका जाने वाले भारतीयों की संख्या में 35 फीसद की वृद्धि दर्ज की गई है। अकादमिक वर्ष 2022-23 में अब तक सबसे अधिक 2,68,923 छात्र अमेरिका गए हैं। एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।

‘ओपन डोर्स रिपोर्ट’ के अनुसार, अमेरिका में पढ़ाई कर रहे 10 लाख से अधिक विदेशी छात्रों में भारतीय छात्रों की संख्या 25 प्रतिशत से अधिक है और इस साल भी रिकॉर्ड संख्या में भारतीय छात्र उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए अमेरिका गए।


भारत में अमेरिका के राजदूत एरिक गार्सेटी ने कहा, ’आपने कर दिखाया, भारत! अमेरिका में भारतीय छात्र और उनकी सफलता में सहयोग करने वाले परिवार इस उपलब्धि के लिए सम्मान के पात्र हैं। विदेश में अध्ययन करने का निर्णय और अमेरिका को चुनना, आपके और आपके परिवारों द्वारा किए गए मूल्यवान निवेश को दर्शाता है। आप दोनों देशों को करीब ला रहे हैं और हमें उज्ज्वल भविष्य की ओर ले जा रहे हैं।’

गार्सेटी ने कहा, ‘हम भारतीय शिक्षा व्यवस्था की सराहना करते हैं, जिसने छात्रों को वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार किया। भारत को अग्रणी रहते देखने को लेकर उत्सुक हूं।’

पिछले वर्ष की तुलना में 64 हजार छात्रों की वृद्धि
ओपन डोर्स रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसार, भारत 2009-10 के बाद पहली बार अमेरिका में विदेशी स्नातक छात्रों का सबसे बड़ा स्रोत बनने के मामले में चीन से आगे निकल गया। स्नातक की पढ़ाई कर चुके भारतीय छात्रों की संख्या 63 प्रतिशत बढ़कर 1,65,936 हो गई। पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 64,000 छात्रों की वृद्धि हुई है, जबकि स्नातक की पढ़ाई कर रहे छात्रों की संख्या में भी 16 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

Share:

Next Post

NASA के इस मिशन पर मंडरा रहा संकट, कैसे आएगा मंगल ग्रह से चट्टान का सैंपल

Tue Nov 14 , 2023
वॉशिंगटन (washington) । NASA यानी नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन के अंतरिक्ष वैज्ञानिक मंगल ग्रह (Mars planet) की चट्टान के नमूने को वापस पृथ्वी (Earth) पर लाना चाहते हैं। इससे जीवन के संकेतों के अध्ययन करेंगे। नासा का मंगल सैंपल रिटर्न मिशन पहला मिशन होगा जब रॉकेट किसी दूसरे ग्रह से उड़ान भरेगा। हालांकि अब […]