ब्‍लॉगर

बच्चों की शिक्षा एवं स्वास्थ्य पर महामारी का असर

– ललित गर्ग कोरोना महामारी के कारण बच्चों की शिक्षा एवं स्वास्थ्य सर्वाधिक प्रभावित हुआ है। ज्यादातर राज्यों में जहां सवा साल से स्कूल बंद पड़े हंै, वहीं अस्पतालों में कोरोना पीड़ितों के दबाव के कारण बच्चों का इलाज प्रभावित हुआ है, उन्हें समुचित चिकित्सा सुविधाएं सुलभ नहीं हो पायी है। महामारी के दौरान दो […]

ब्‍लॉगर

हमारा अस्तित्व प्रकृति से है, प्रकृति का हम से नहीं

– योगेश कुमार गोयल आधुनिकीकरण और औद्योगिकीकरण के चलते विश्वभर में प्रकृति के साथ बड़े पैमाने पर जो खिलवाड़ हो रहा है, उसके मद्देनजर आमजन को पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरूक करने की जरूरत कई गुना बढ़ गई है। कितना अच्छा हो, अगर हम सब प्रकृति संरक्षण में अपनी सक्रिय भागीदारी निभाने का संकल्प लेते […]

ब्‍लॉगर

खतरनाक है जातीय जनगणना

– डॉ. वेदप्रताप वैदिक बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मांग की है कि इसबार जातीय जनगणना जरूर की जाए और उसे प्रकट भी किया जाए। पिछली बार 2010 में भी जातीय जनगणना की गई थी लेकिन सरकार उसे सार्वजनिक नहीं कर पाई थी, क्योंकि हमने उसी समय ‘मेरी जाति हिंदुस्तानी’ आंदोलन छेड़ दिया था। […]

ब्‍लॉगर

नर और नारी की समानता का द्योतक है शिव का अर्धनारीश्वर स्वरूप

– सोनम लववंशी यह सत्य है कि हम आधुनिक होती जीवनशैली और बाहरी चकाचौंध में अपने वास्तविक मूल्यों को दरकिनार कर रहे हैं। लेकिन हम भले ही आधुनिकता का चोला क्यों न ओढ़ ले पर प्रकृति हमें हमारी संस्कृति से जोड़ने का कार्य करती है। जी हां यह सच है कि हम ज़िन्दगी को जिस […]

ब्‍लॉगर

देश के नौजवान व महिलायें चानू मीराबाई और शिल्पा शेट्टी का फर्क समझें

– आर.के. सिन्हा शिल्पा शेट्टी अपने पति राज कुंद्रा का बेशर्मी से बचाव कर रही हैं। कह रही हैं कि उनके पति बेकसूर हैं और वह पोर्न नहीं इरोटिक फिल्में बनाते थे। क्या मतलब होता है इरोटिक का ? क्या शिल्पा शेट्टी को पता है कि इरोटिक का अर्थ होता है कामुक या कामोत्तेजक। क्या […]

ब्‍लॉगर

शैक्षणिक व्यवस्था के विकास की आधारशिला है शोध

– डॉ शंकर सुवन सिंह शोध उस प्रक्रिया अथवा कार्य का नाम है जिसमें बोधपूर्वक प्रयत्न से तथ्यों का संकलन कर सूक्ष्मग्राही एवं विवेचक बुद्धि से उसका अवलोकन- विश्लेषण करके नए तथ्यों या सिद्धांतों का उद्घाटन किया जाता है। रैडमैन और मोरी ने अपनी किताब “दि रोमांस ऑफ रिसर्च” में शोध का अर्थ स्पष्ट करते […]

ब्‍लॉगर

भारत को पहले रखने और विकास से जोड़ने की बात

– सियाराम पांडेय ‘शांत’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को हमेशा पहले रखने का मंत्र दिया है। भारत जोड़ो आंदोलन चलाने की सलाह दी है। उन्होंने कहा है कि इसे राजनीतिक आंदोलन मानने की जरूरत नहीं है बल्कि इसे जनता का आंदोलन बनाया जाना चाहिए। उन्होंने इसके लिए महात्मा गांधी के अंग्रेजो भारत छोड़ो आंदोलन […]

ब्‍लॉगर

अयोध्या के विकास का नया अध्याय

– डॉ. दिलीप अग्निहोत्री तीर्थाटन की दृष्टि से उत्तर प्रदेश का विशेष महत्व रहा है। यहां के अनेक स्थल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध रहे हैं। लेकिन विश्वस्तरीय पर्यटन सुविधाओं की ओर पहले अपेक्षित ध्यान नहीं दिया गया। योगी आदित्यनाथ इस कमी को दूर कर रहे हैं। उनका कहना था कि पहले की सरकारें अयोध्या का […]

ब्‍लॉगर

पुण्यतिथि विशेष : डॉ. अब्दुल कलाम, करोड़ों लोगों की प्रेरणा

– योगेश कुमार गोयल ‘मिसाइल मैन’ के नाम से विख्यात डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम (अबुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम) भारतीय इतिहास में एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति रहे हैं, जो वैज्ञानिक रहे हैं। देश के महान वैज्ञानिक होने के साथ-साथ वे एक अद्भुत इंसान और प्रेरणादायक व्यक्तित्व भी थे। सादगी, मितव्ययिता और ईमानदारी जैसे विलक्षण गुणों की […]

ब्‍लॉगर

अब सरकार पर ‘किसान संसद’ का दबाव

– सियाराम पांडेय ‘शांत’ दिल्ली की सीमाओं पर चल रहा किसान आंदोलन दम तोड़ रहा था। मीडिया में उसे पहले जैसी तवज्जो नहीं मिल पा रही थी। यह आंदोलन अब किसान केंद्रित कम, नेता केंद्रित ज्यादा हो गया था। ऐसे में संसद के मानसून सत्र के साथ ही दिल्ली में जंतर-मंतर पर किसान संसद का […]