जीवनशैली बड़ी खबर स्‍वास्‍थ्‍य

Vaccine का दूसरा डोज लेने में हुई देरी तो क्या बेअसर हो जाएगी पहली खुराक? जानिए सवाल का जवाब

नई दिल्‍ली। भारत में कोरोना वायरस (Corona Virus) की दूसरी लहर (Second Wave) का कहर अब कंट्रोल में हैं। अब हर दिन एक लाख से भी कम केस (Case) आ रहे हैं लेकिन मरीजों का मौंत का सिलसिला अब भी जारी है। राहत की बात ये भी है धीरे-धीरे हालात अब काबू में आते दिख रहे हैं। वैक्सीनेशन का कोविड (Covid) के प्रकोप पर काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। देश में लंबे वक्त से लोगों का टीकाकरण जारी है और जो वैक्सीनेट हो चुके हैं अब उनकी दोबारा डोज लेने की बारी है। हालांकि, मौजूदा वक्त में टीकों की कमी के चलते दूसरे डोज लेने को लेकर लोगों को चिंता में डाल दिया है।

जबकि केंद्र सरकार अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीनेट करने की पुरजोर कोशिश कर रही है। साथ ही पहला डोज ले चुके लोगों को दूसरी खुराक (Second dose) लेने के लिए जोर दे रही हैं। ऐसे में यदि आप वैक्सीन का दूसरा डोज लेने की तारीख को याद कर रहे हैं तो आपके दिमाग में कुछ सवाल जरूर उठ रहे होंगे। जैसे क्या वैक्सीन का पहला डोज काफी है या फिर एक निश्चित तारीख के बाद शरीर में एंटीबॉडीज खत्म हो जाएंगी और टीके का असर कम हो जाएगा। या फिर आप दूसरे टीकाकरण को डिले कर सकते हैं और इसे कितना लेट कर सकते हैं? ऐसे कई सवालों के जवाब में नीचे दिए गए हैं।

​दूसरी खुराक से पैदा होती हैं Memory-B cells
अगर आप कोविड के प्रकोप से पूरी तरह से बचना चाहते हैं तो सभी को वैक्सीन के डबल डोज की जरूरत होती है। हेल्थ एक्सर्ट्स भी बार-बार इस बात पर जोर दे रहे हैं कि वैक्सीन के दोनों डोज मिलने से ही आप संक्रमण से पूरी तरह से बच सकते हैं। इसमें कोई दो राय नहीं कि पहला डोज भी काफी प्रभावी होता है लेकिन दूसरे डोज से इम्यून सिस्टम को और अधिक मजबूती मिलती है। दूसरी खुराक शरीर में मौजूद इम्यून सिस्टम में मेमोरी-बी कोशिकाओं (Memory-B cells) को भी उत्पन्न करती है। ये एक तरह के वाइट ब्लड सेल होती हैं जिनमें मौजूद रिसेप्टर्स वायरस के शरीर में प्रवेश करते ही सिस्टम को सचेत कर देते हैं और संक्रमण से हमारी सुरक्षा करती हैं।

निर्धारित तारीख पर वैक्सीन के दूसरे नहीं ले पाते तब क्या होगा?
एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर संभव हो सके तो निर्धारित तारीख को ही टीकाकरण कराएं। लेकिन किसी समस्या के चलते अगर उस डेट को वैक्सीन की दूसरी खुराक नहीं मिल पाती पाते तो इसमें घबराने की कोई बात नहीं है। कई लोग यह मान रहे हैं कि तय समय पर दूसरी डोज ना लगने पर वैक्सीन की पहली डोज बेकार हो जाएगी और उन्हें फिर से पहली डोज से शुरुआत करनी पड़ेगी। इस पर अभी कोई शोध भी नहीं हुआ है कि खुराक लेने में देरी होने से वैक्सीन का असर कम हो जाएगा। हालांकि, कोशिश करें कि निर्धारित डेट के नजदीक ही किसी दूसरी तारीख को चुनें। इससे आपको संक्रमण की संभावना कम रहेगी।

तय समय से कितने दिन तक डिले कर सकते हैं दूसरा डोज?
अगर वैक्सीन की कमी के चलते या फिर अन्य किसी समस्या के कारण आपको वैक्सीन की दूसरी डोज निर्धारित तारीख पर नहीं लग सकी या उससे 10-15 दिन ऊपर हो गए हैं तो घबराने की कोई जरूरत नहीं है। आप तब भी दूसरी डोज लगवा सकते हैं, क्योंकि पहली डोज आपके मेमरी सेल में मौजूद रहती है और दूसरी डोज लगने के बाद ही पूरी एंटीबॉडीज बनती हैं। कुछ समय की देरी से अगर सेकंड डोज लगती है तो उसका कोई नुकसान नहीं है।

​कब होती है बूस्टर डोज की जरूरत?
वैज्ञानिकों का मानना है कि सिंगल डोज लेने के बाद कई मामलों में वायरस के खिलाफ शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बनी रहती है। ऐसे में यदि आप दोबारा वायरस के संपर्क में आते हैं तो ये प्रतिरोधक क्षमता दोबारा एक्टीवेट हो जाती है। लेकिन हर मरीज के साथ ऐसा हो ये भी जरूरी नहीं है। यदि वैक्सीनेशन के बाद मरीज के शरीर में ये प्रतिरोधक क्षमता नहीं बनती है तो ऐसे मामलों में बूस्टर डोज की जरुरत होती है।

Next Post

गुरु चलेंगे अब उल्टी चाल, इन 5 राशियों पर दिखेगा उलट प्रभाव

Fri Jun 11 , 2021
डेस्‍क। धन संपन्नता, ज्ञान और विवेक के कारक माने जाने वाले बृहस्पति ग्रह 20 जून 2021 को कुंभ राशि में वक्री चाल से गोचर करने जा रहे हैं। ज्योतिष शास्त्र में गुरु की चाल का बड़ा महत्व बताया गया है। इनकी चाल का सभी 12 राशियों पर अलग अलग प्रभाव होता है। गुरु कुंभ राशि […]