जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

अल्जाइमर रोग से बचना है, तो डाइट में शामिल करें ये चीजें


अल्जाइमर एक मानसिक विकार है। इस बीमारी में व्यक्ति को भूलने की आदत हो जाती है। Alzheimer के बारे में सबसे पहले डॉक्टर अलोइस अल्जाइमर ने बताया था। इसके लिए इस बीमारी को अल्जाइमर कहा जाता है। इस बीमारी के कई लक्षण हैं, लेकिन प्रमुख लक्षण भूलने की आदत, बोलने और निर्णय लेने में असुविधा होना है।

यह बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। खासकर वृद्ध लोगों को Alzheimer का खतरा सबसे अधिक रहता है। फ़िलहाल Alzheimer का निश्चित इलाज नहीं है, लेकिन खानपान और दिनचर्या में सुधार कर Alzheimer से बचा जा सकता है। इसके लिए डाइट में इन 5 चीज़ों को जरूर शामिल करें-

फैटी फिश का सेवन करें
फैटी फिश यानी तैलीय मछली में उच्च मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-ऑक्सीडेटिव, एंटी-कार्सिनोजेनिक के गुण पाए जाते हैं। ये गुण मस्तिष्क को सभी प्रकार की बीमारियों से सुरक्षित रखते हैं। इसके लिए साल्मन, टूना, हेररिंग्स मछलियों का सेवन कर सकते हैं।

हरी पत्तेदार साग और सब्जियां
इनमें मैग्नीशियम, एंटीऑक्सिडेंट्स, विटामिन-ए, सी और इ पाए जाते हैं, जिनसे दिमाग के कार्यप्रणाली में सुधार होता है। इसके लिए अपनी डाइट में केल, कोलार्ड्स, ब्रोकोली को जरूर शामिल करें। विशेषज्ञों की मानें तो सप्ताह में 6 बार हरी पत्तेदार साग और सब्जियों का सेवन करें।

नट्स खाएं
नट्स फाइबर, प्रोटीन, असंतृप्त फैटी एसिड, एंटीऑक्सिडेंट, आदि का प्रमुख स्रोत हैं, जिनमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स बहुत कम होते हैं। एक सप्ताह में 5 बार नट्स का सेवन जरूर करें। इससे दिमाग तेज होता है और ह्रदय संबंधी रोगों का खतरा कम हो जाता है। इसके लिए अखरोट, मूंगफली, काजू और बादाम खा सकते हैं।

बीन्स खाएं
इसमें फाइबर कैल्श‍ियम, आयरन, प्रोटीन, पोटैशियम और विटामिन ए, सी, के और बी 6 पाए जाते हैं जो सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं। खासकर फाइबर बढ़ते वजन को कम करने में सहायक है। इसके लिए बीन्स को उबालकर भून लें। अब नमक के साथ सेवन करें। इससे स्मरण शक्ति बढ़ती है। साथ ही बढ़ते वजन में आराम मिल सकता है।

बेरीज का सेवन करें
इसमें एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है, जिसे पॉलीफेनोल कहा जाता है। पॉलीफेनोल से लिवर स्वस्थ रहता है। साथ ही मस्तिष्क प्रक्रिया सही से होती है। इसमें फाइबर अधिकता और कैलोरी कम होती है। इसके लिए आप सभी प्रकार के बेरीज का सेवन कर सकते हैं। सप्ताह में दो बार बेरीज जरूर खाएं।

नोट – उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सामान्‍य जानकारी के लिए हैं इन्‍हें किसी प्रोफेशनल डॉक्‍टर की सलाह के रूप में न समझें कोई भी बीमारी या परेंशानी होने की स्थिति में डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें ।

 

Share:

Next Post

नरेंद्र मोदी 'मन की बात' के जरिये बता सकते है कृषि कानूनों के फायदे

Sun Dec 27 , 2020
नई दिल्‍ली।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (रविवार, 26 नवंबर) एक बार फिर अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के जरिये देशवासियों से संवाद करेंगे। उनका यह कार्यक्रम ऐसे समय में होने जा रहा है, ज‍बकि केंद्र सरकार की ओर से लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन को एक म‍हीना हो चुका […]