देश विदेश

जम्मू-कश्मीर में नापाक साजिश, भारत में हथियार सप्लाई के लिए महिलाओं को बना रहा मोहरा

श्रीनगर (Srinagar.)। पाकिस्तान (Pakistan) अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। आए दिन कुछ ना कुछ करता रहता है। जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) में आतंकी संगठन लगातार लोगों में डर पैदा करने और शांति भंग करने के लिए नए-नए तरीके ढूंढ रहे हैं, यही वजह है कि पाकिस्तानी संगठन इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस यानी आईएसआई (isi) अब महिलाओं, लड़कियों और किशोरों को अपना निशाना बनाने की कोशिश कर रहे हैं. इतना ही नहीं पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (isi)आतंकवादी समूहों के हथियार, ड्रग्स और संदेश ले जाने के लिए महिलाओं और किशोरों का इस्तेमाल कर रही है!



एक न्‍यूज एजेंसी अनुसार चिनार कॉर्प्स के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल अमरदीप सिंह औजला ने बताया कि सुरक्षाबलों को सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि नया खतरा यह है कि महिलाओं और किशोरों का इस्तेमाल संदेश, ड्रग्स और हथियार ले जाने के लिए किया जा रहा है। यह साजिश एलओसी के पार बैठे लोग रच रहे हैं।

लेफ्टिनेंट जनरल अमरदीप सिंह औजला के मुताबिक, सेना ने कुछ ऐसे मामलों का पता लगाया है, जिसमें यह बात सामने आई है कि मैसेज, ड्रग्स और कभी-कभी हथियार ले जाने के लिए महिलाओं, लड़कियों और किशोरों को भर्ती किया जा रहा है। साथ ही अमरदीप सिंह औजला ने बताया कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की ये नई चाल है, हम दूसरी एजेंसियों के साथ मिलकर इससे निपटने पर काम कर रहे हैं।
लेफ्टिनेंट जनरल औजला ने आगे कहा कि हमें किसी भी कीमत पर अपनी चौकसी में कमी नहीं आने देनी है। राष्ट्रीय सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है और हम इसे बनाए रखने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि आतंकियों के संदेशवाहक के रूप में काम कर चुके कई लोगों को पकड़ा गया है. अब महिलाओं, लड़कियों और किशोरों को मुख्य रूप से संदेश ले जाने के विकल्प के रूप में शामिल किया गया है।

Share:

Next Post

अमेरिका में लिस्टेड कंपनियों की संख्या 50% घटकर 3,700 रह गई, इस कारण स्टॉक मार्केट से बाहर हुईं कंपनियां

Mon Jun 12 , 2023
नई दिल्ली। अमेरिका (America) में एक अजीब बदलाव देखने को मिला है। शेयर बाजार (Share Market) में लिस्टेड कंपनियां लगातार कम हो रही है। सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी एक्सचेंजों पर कारोबार करने वाली सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनियों की संख्या 1996 में अपने चरम पर थी। उस समय करीब 8,000 कंपनियां लिस्टेड थी। […]