बड़ी खबर

‘PM हमारे घोषणापत्र का प्रचार कर रहे’, धन पुनर्वितरण-विरासत कर पर BJP के बयानों पर जयराम का पलटवार

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के प्रचार के बीच कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा की बुधवार को विरासत कर की बात करके कांग्रेस को एक बार फिर फंसा दिया है। उनके इस बयान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा लगातार कांग्रेस को घेर रही है। इस पर कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने दावा किया कि पार्टी के घोषणापत्र में विरासत कर और धन पुनर्वितरण का कहीं भी कोई जिक्र नहीं है। जयराम रमेश ने कहा कि प्रधानमंत्री कांग्रेस के घोषणापत्र का प्रचार कर रहे हैं।

विरासत कर को लेकर जयराम रमेश का पलटवार
एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में जयराम रमेश ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने देश में विरासत कर को समाप्त किया था। उन्होंने कहा, “मैं एक बात स्पष्ट करना चाहता हूं कि हमारे घोषणापत्र में कहीं भी विरासत कर के बारे में कोई बात नहीं कही गई है। सच्चाई यह है कि 1985 में प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने विरासत कर को समाप्त किया था। हमने विरासत कर के बारे में कोई जिक्र नहीं किया और यह हमारा एजेंडा नहीं है।”


जयराम रमेश ने पीएम मोदी को चुनौती देते हुए कहा, “पीएम मोदी कहते हैं कि हमारे घोषणापत्र में धन पुनर्वितरण की बात कही गई है। मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि हमारे 50 पन्नों के घोषणापत्र में कहीं भी धन पुनर्वितरण का जिक्र भी नहीं किया गया है।”

पीएम मोदी कांग्रेस के घोषणापत्र का कर रहे प्रचार: रमेश
कांग्रेस नेता ने कहा कि पीएम मोदी कांग्रेस के घोषणापत्र को सांप्रदायिक एंगल देने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा, “भाजपा मुश्किल में है। प्रधानमंत्री भी हैरान है। 19 अप्रैल के बाद वह पूरे एजेंडा को दूसरी दिशा में ले जाने की कोशिश कर रहे हैं। वे हमारे घोषणापत्र को सांप्रदायिक एंगल देने की कोशिश कर रहे हैं। वह ऐसे मुद्दों को उठा रहे हैं जिसका जिक्र हमारे घोषणापत्र में भी नहीं है।”

जयराम रमेश ने आरोप लगाते हुए कहा कि चुनावी रैलियों में पीएम मोदी हमारे घोषणापत्र का प्रचार कर रहे हैं। कांग्रेस नेता ने इसे गलत बताया। उन्होंने आगे कहा कि पहली बार कोई प्रधानमंत्री विपक्ष के घोषणापत्र का प्रचार कर रहा है।

Share:

Next Post

ईरान को तबाह करने के लिए पाकिस्तान दे रहा सेना के हथियार! इस आतंकी संगठन की कर रहा मदद

Thu Apr 25 , 2024
डेस्क। पाकिस्तान में ईरान के राष्ट्रपति की यात्रा तो हो गई, लेकिन जिस दस अरब डॉलर के व्यापारिक संबंधों की उम्मीद इस्लामाबाद ने तेहरान से लगाई थी उस पर पानी फिर गया। दरअसल ईरान की खुफिया एजेंसियों के दस्तावेजों से खुलासा हुआ है कि जब इस्राइल ने दमिश्क के भीतर उनके दूतावास पर हमला किया, […]