क्राइम देश

जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े नेटवर्क का UP ATS कर रही भंडाफोड़, तलाश जारी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में एटीएस (UP ATS) लगातार आतंकियों के प्लान का भंडाफोड़ कर रही है। यूपी एटीएस ने सहारनपुर (Saharanpur) से जैश-ए-मोहम्मद (JEM) और तहरीक-ए-तालिबान, पाकिस्तान (TTP) से जुड़े एक संदिग्ध आतंकी मोहम्मद नदीम को गिरफ्तार किया है।

बता दें यूपी एटीएस ने सहारनपुर (Saharanpur) से जैश-ए-मोहम्मद (JEM) से जुड़े मोहम्मद नदीम ने यूपी एटीएस की नींद उड़ा दी है। स्वतंत्रता दिवस से पहले उसका पूरा नेटवर्क ध्वस्त कर देने के लिए एटीएस की टीमें हर इनपुट के पीछे भाग रही हैं।
उसके सभी संभावित सहयोगियों की तलाश तेज कर दी गई है। नदीम के अलावा आजमगढ़ से गिरफ्तार किए गए सबाउद्दीन आजमी को कस्टडी रिमांड पर लेने के लिए एटीएस 16 अगस्त को कोर्ट में प्रार्थना पत्र देगी।



इस संबंध में प्रदेश के एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार प्रशांत कुमार ने कहा कि नदीम विभिन्न स्थानों पर आतंकी घटनाओं को अंजाम देने की तैयारी में था। वह कई तरह के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से जुड़ा हुआ था, जिससे वह आतंकी घटना को अंजाम दे सके।
नदीम का वर्ष 2018 में ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर पाकिस्तान के आतंकी हकीमुल्लाह से परिचय हुआ था। हकीमुल्लाह ने ही नदीम का परिचय सैफुल्लाह से करवाया। फिर सैफुल्लाह ने पाकिस्तान, बांग्लादेश और संयुक्त अरब अमीरात में स्थित कट्टरपंथी तत्वों से उसका परिचय करवाया। नदीम की फेक जी-मेल आईडी, वर्चुअल आईडी और टेलीग्राम आईडी बनाकर पाकिस्तान भेजी गई। नदीम को ‘लोन वुल्फ अटैक’ करने के लिए ट्रेनिंग भी दी गई। इसके लिए नदीम द्वारा कुछ ‘टारगेट’ भी चिह्नित किए गए थे।

इस एटीएसने नदीम और सबाउद्दीन से प्रारंभिक पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर अपनी पड़ताल तेज कर दी है। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर किसी तरह की अनहोनी रोकने के उद्देश्य से हर सूचना का सत्यापन कराया जा रहा है। गहन पूछताछ और सभी संपर्कों के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए दोनों को कस्टडी रिमांड पर लिया जाएगा। इसके लिए 16 अगस्त को कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया जाएगा। दोनों से एटीएस के अलावा अन्य सुरक्षा एजेंसियां भी पूछताछ करेंगी। इस बीच उनके मोबाइल फोन एवं सोशल मीडिया के प्लेटफार्म से जरूरी सूचनाएं हासिल की जा रही हैं।

Share:

Next Post

चीन की सैन्य आपूर्ति-गुणवत्ता से बांग्लादेश असंतुष्ट, पारदर्शिता और जवाबदेही की भी कमी

Sun Aug 14 , 2022
ढाका। लंबे समय से चीन की कोशिश भारत के पड़ोसी देशों में प्रमुख रक्षा निर्यातक देश के रूप में उभरने की रही है। इसके लिए वह हथियारों की आपूर्ति के साधन को सैन्य निर्भरता से बांधने की कोशिश (इंस्ट्रुमेंटम रेग्नि) में भी है, लेकिन उसका उत्पादन बहुत ही कम गुणवत्ता का है। एक मीडिया रिपोर्ट […]