देश भोपाल मध्‍यप्रदेश

मप्र में कोरोना के 169 नये मामले, लगातार दूसरे दिन एक मौत

भोपाल। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के 169 नये मामले (169 new cases of corona during the last 24 hours) सामने आए हैं, जबकि 247 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 10 लाख 50 हजार 844 हो गई है। वहीं, राज्य में कोरोना से लगातार दूसरे दिन भी एक मरीज की मौत हुई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर शाम जारी कोविड-19 बुलेटिन में दी गई। एक दिन पहले राज्य में 223 नये संक्रमित मिले थे, जबकि एक मरीज की मृत्यु हुई थी।

कोविड-19 बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 7,187 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 169 पॉजिटिव और 7,018 सेम्पल निगेटिव पाए गए, जबकि 72 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पॉजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत (संक्रमण की दर) 2.3 रहा। नये मामलों में इंदौर में 49, भोपाल में 40, जबलपुर में 20, नर्मदापुरम में 10, सीहोर में 9, ग्वालियर में 7, नरसिंहपुर में 5, खंडवा, खरगोन, मंडला और शहडोल में 3-3, धार, हरदा, मुरैना, रतलाम और सागर में 2-2 तथा बालाघाट, डिंडौरी, गुना, रायसेन, राजगढ़, शिवपुरी और टीकमगढ़ में 1-1 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं, जबकि राज्य के 29 जिलों में कोरोना के नये मामले शून्य रहे। वहीं, राज्य में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना से एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है। मृतक जबलपुर का निवासी था। इसके बाद राज्य में मृतकों की कुल संख्या बढ़कर 10,758 हो गई है। एक दिन पहले भी जबलपुर में एक मरीज की कोरोना से मौत हुई थी।

प्रदेश में अब तक कुल दो करोड़ 97 लाख 57 हजार 446 लोगों के सेम्पलों की जांच की गई। इनमें कुल 10,50,844 प्रकरण पाजिटिव पाए गए। इनमें 10,38,701 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें से 247 मरीज शुक्रवार को स्वस्थ हुए। अब यहां सक्रिय प्रकरणों की संख्या 1464 से घटकर 1385 रह गई। हालांकि, खुशी की बात यह भी है कि राज्य के 15 जिले अब भी पूरी तरह कोरोना संक्रमण से मुक्त हैं। इन जिलों में अब कोरोना का एक भी सक्रिय मरीज नहीं है।

इधर, प्रदेश में 05 अगस्त को शाम छह बजे तक 77 हजार 869 लोगों का टीकाकरण किया गया। इन्हें मिलाकर राज्य में अब तक वैक्सीन के 12 करोड़, 61 लाख, 51 हजार 748 डोज लगाई जा चुकी है। (एजेंसी, हि.स.)

Share:

Next Post

प्राकृतिक संसाधनों का संवर्धन

Sat Aug 6 , 2022
– डॉ. दिलीप अग्निहोत्री भारतीय संस्कृति में प्राकृतिक संसाधनों पर अधिकार का उपभोगवादी विचार नहीं है। इसके विपरीत प्रकृति के प्रति सम्मान को महत्व दिया गया। इसके अंतर्गत उसके संरक्षण और संवर्धन का भाव समाहित है। ऐसा होने पर प्रकृति स्वयं मानव के लिए कल्याणकारी होगी। तब उस पर अधिकार जमाने की आवश्यकता ही नहीं […]

Leave a Reply

Your email address will not be published.