विदेश

अबूधाबी और शारजाह के हवाई अड्डों पर अभी भी फंसे हुए हैं 23 भारतीय यात्री

नई दिल्ली। अबूघाबी और शारजाह के हवाई अड्डों पर अभी भी प्री-ट्रैवल अप्रूवल को लेकर हुई गलतफहमी के कारण 23 भारतीय यात्री फंसे हुए हैं। यह वो लोग हैं जो हाल ही में भारत से आए हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अबू धाबी में 15 अगस्त को इत्तेहाद एयरवेस की फ्लाइट से आए भारतीय यात्री हवाई अड्डे पर ही फंसे हुए हैं। जबकि शारजाह में एयर अरबिया की फ्लाइट से आए लगभग 18 यात्री वहीं पर फंसे हुए हैं। इन यात्रियों का कहना है कि इन्हें देश में प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा है। जिन ट्रैवल एजेंट्स ने इन लोगों की टिकिट कराई थी, उसका कहना है कि हो सकता है कि इन लोगों को वापस भारत लौटना पड़े। अबूधाबी जाने वाली फ्लाइट ने केरल से उड़ान भरी था जबकि शारजाह के लिए लखनऊ से।

यात्रियों और ट्रैवल एजेंट्स को इस बात की आशंका है कि इन लोगों को एयरपोर्ट से बाहर जाने की अनुमति इसलिए नहीं दी जा रही है क्योकि इनके पास यात्रा करने के लिए ग्रीन ओके नहीं है क्योकि जब www.uaeentry.ica.gov.ae वेबसाइट पर इनके दस्तावेज वेरीफाई किए गए तो इन्हें आइडेंटिटी और सिटीजनशिप से ग्रीन ओके नहीं मिला।

इसके अलावा इनके पास रेड मेसेज आया जिसमें कहा गया कि आपकी सुरक्षा के लिए आपकी यात्रा के 60 दिनों के लिए रिशेड्यूल होने की संभावना है। आपके सहयोग के लिए धन्यवाद। 12 अगस्त को नेशनल इमरजेंसी क्राइसिस एंड डिजास्टर मैनेजमेंट रेजीडेंट्स रिटर्न प्रोग्राम के दूसरे चरण के तहत फंसे हुए निवासियों को प्री-अप्रूवल की जरूरत नहीं है। हालांकि इन्हें पीसीआर कोविड-19 सर्टीफिकेट की जरूरत है। साथ ही यह भी कहा गया था कि यात्रियों को यात्रा करने से पहले अपना स्टेटस चेक करना होगा। कई एयरलाइंस ने हाल ही में एक स्टेटमेंट जारी किया था, जिसमें कहा गया था कि जो यात्री अबूधाबी और शारजाह लौट रहे हैं, उन्हें आईसीए के अप्रूवल की जरूरत नहीं है।

एक यात्री ने मीडिया को बताया कि वह एयरपोर्ट पर है और उन्हें भारत लौटने के लिए कहा जा रहा है। प्रशासन ने उनसे कहा है कि उन्हें और अन्य कॆ विमान से वापस भेजा जाएगा। अभी एयरलाइन वाले लोग ही खाना पानी दे रहा है। ये लोग पिछली रात को लाउंज में सोए थे।

Next Post

मिशेल ओबामा का भावुकतापूर्ण संबोधन, बाइडन को जिताने की अपील

Tue Aug 18 , 2020
लॉस एंजेल्स । मिशेल ओबामा ने सोमवार को डेमोक्रेटिक पार्टी की नेशनल कन्वेंशन में जोई बाइडन के समर्थन में अपील करते हुए कहा कि इस समय देश नेतृत्व संकट के ऐसे दौर से गुज़र रहा है, जब चारों ओर अफ़रा-तफ़री मची है और समाज दो भागों में विभाजित हो गया है। ऐसी स्थिति में देशवासियों […]