बड़ी खबर व्‍यापार

देश में 15 अप्रैल तक 329.91 लाख टन चीनी का हुआ उत्पादन: इस्मा

– चालू सत्र 2021-22 में 90 लाख टन तक पहुंच सकता चीनी का निर्यात

नई दिल्ली। देश में चीनी विपणन वर्ष 2021-22 में चीनी मिलों ने 15 अप्रैल तक 329.91 लाख टन चीनी का उत्पादन (329.91 lakh tonnes of sugar production) किया है, जबकि पिछले साल की समान अवधि में 291.82 लाख टन चीनी का उत्पादन (291.82 lakh tonnes of sugar production) हुआ था। इस तरह 15 अप्रैल तक 38.09 लाख टन ज्यादा चीनी का उत्पादन (38.09 lakh tonnes more sugar production) हुआ है। भारतीय चीनी मिल संघ (इस्मा) ने सोमवार को यह जानकारी दी।


इस्मा ने जारी एक बयान में कहा कि चीनी मिलों ने 15 अप्रैल तक 329.91 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है, जबकि पिछले साल समान अवधि में 291.82 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ था। उद्योग निकाय ने कहा कि चीनी विपणन वर्ष 2021-22 के लिए चीनी उत्पादन का अनुमान संशोधित कर 350 लाख टन किया गया है। इसके साथ ही निर्यात अनुमानों को संशोधित कर 90 लाख टन से ज्यादा कर दिया गया है।

इस्मा के मुताबिक चीनी का निर्यात सितंबर में समाप्त होने वाले चालू चीनी विपणन वर्ष 2021-22 में 90 लाख टन से अधिक होने का अनुमान है, जबकि यह पिछले साल समान अवधि में 71-72 लाख टन रहा था। उद्योग निकाय के मुताबिक चीनी का निर्यात बढ़ने का कारण बांग्लादेश और इंडोनेशिया से भारतीय चीनी की बेहतर मांग है। दरअसल पिछले साल 15 अप्रैल, 2021 को गन्ने की पेराई करने वाली 170 चीनी मिलों की तुलना में इस साल 15 अप्रैल, 2022 को 305 चीनी मिलें गन्ने की पेराई कर रही थीं।

उल्लेखनीय है कि खाद्य सचिव सुधांशु पांडेय ने सितंबर में समाप्त होने वाले चालू चीनी विपणन वर्ष में भारत का चीनी निर्यात 80 लाख टन पार करने की उम्मीद जताई थी, जो पिछले चीनी विपणन वर्ष से अधिक है। चीनी विपणन वर्ष 2020-21 के दौरान देश ने रिकॉर्ड 72.3 लाख टन चीनी का निर्यात किया। दरअसल चीनी विपणन वर्ष अक्टूबर से सितंबर तक चलता है। (एजेंसी, हि.स.)

Share:

Next Post

मप्र में मिले कोरोना के 05 नये मामले, 29 दिन से कोई मौत नहीं

Tue Apr 19 , 2022
भोपाल। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में बीते 24 घंटों में कोरोना के 05 नये मामले (05 new cases of corona in the last 24 hours) सामने आए हैं, जबकि 02 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 10 लाख 41 हजार 250 हो गई है। राहत की बात […]