जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

सड़क पर शिकंजी-जूस के सेवन से बचें, इनमें मिलने वाली बर्फ से गंभीर बीमारियों का खतरा

नई दिल्ली। गर्मियों (summer) में सड़कों पर बिकने वाले जूस (street juices), शिकंजी (shikanji) पीने का चलन सामान्य बात है। इस सब चीजों को ठंडा करने के लिए बर्फ (Disadvantages of Eating Raw Ice) का इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि सड़क पर बिकने वाली जिस बर्फ का आप सेवन कर रहे हैं, वह आपको अस्पताल भी पहुंचा सकती है।

2 तरह की होती है बर्फ
बर्फ 2 तरह की होती है. एक होती है पक्की बर्फ और दूसरी कच्ची बर्फ (Raw Ice). पक्की बर्फ में केवल पानी होता है. पक्की बर्फ पूरी तरह पारदर्शी होती है. यह बर्फ साफ पानी से जमाई जाती है. ये आमतौर पर आइस क्यूब के रूप में इस्तेमाल होती है. इसका सेवन करना सेहत के लिए खतरनाक नहीं है।

फैक्ट्रियों में बनती है कच्ची बर्फ
वहीं जबकि कच्ची बर्फ (Raw Ice) में पानी के साथ कार्बन डाई ऑक्साइड, ऑक्सीजन समेत कई गैस घुली होती हैं. कच्ची बर्फ बड़ी आइस फैक्ट्रियों में बनाई जाती है, जहां इसे विभिन्न जगहों पर डिलीवरी के लिए भेज दिया जाता है. इस कच्ची बर्फ के निर्माण में अधिकतर फैक्ट्रियां दूषित पानी का इस्तेमाल करती हैं. ऐसे में जब आप उस कच्ची बर्फ से बने जूस, शिकंजी या आइसक्रीम का सेवन करते हैं तो वह गंदा पानी भी आपके शरीर के अंदर जा रहा होता है।

कच्ची बर्फ में छिपे होते हैं बैक्टीरिया
हेल्थ एक्सपर्ट का मानना है कि इन कच्ची बर्फ (Raw Ice) में महीन बैक्टीरिया छुपे होते हैं, जो खुली आंखों से दिखाई नहीं देते. ऐसे में जब कोई स्ट्रीट वेंडर गन्ने के जूस या शिकंजी में ऐसी कच्ची बर्फ डालकर बेचता है तो पीने वालो को हेपेटाइटिस ए, ई, टायफाइड की बीमारी हो सकती है. इस कच्ची बर्फ में कोलिफॉर्म बैक्टीरिया भी हो सकते हैं, जिसके चलते फूड बोर्न जैसी बीमारियां हो सकती हैं. इतना ही नहीं लगातार कच्ची बर्फ का यूज करने वाले लोगों में डायरिया, पीलिया, टाइफाइड, गैस्ट्रोएन्टराइटिस और कैंसर का खतरा भी हो सकता है।

बाहर कच्ची बर्फ के सेवन से बचें
डॉक्टरों के मुताबिक अगर आपका बाहर कहीं जूस पीने का मन करता है तो आप बिना बर्फ का जूस मांगिए. अगर आप ऐसा नहीं करना चाहते और केवल ठंडा जूस ही पीना चाहते हैं तो बिना बर्फ का जूस बनवाकर उसे घर ले आइए और फिर अपने फ्रिज में से पक्की बर्फ डालकर ठंडा कर लीजिए. इस प्रकार आप उस कच्ची बर्फ (Raw Ice) के सेवन से बच जाएंगे और आपकी सेहत को भी नुकसान नहीं होगा।

Share:

Next Post

शोध : चमोली की हल्दी की गुणवत्‍ता ज्‍यादा बेहतर, करक्यूमिन की मात्रा रहती है सबसे अधिक

Wed May 4 , 2022
जोशीमठ । चमोली जिले (Chamoli District) में उगाई जाने वाली हल्दी (Turmeric) की गुणवत्ता काफी बेहतर है। वैज्ञानिकों के एक शोध में यह बात सामने आई है कि अन्य जगह पर पाई जाने वाली हल्दी के मुकाबले चमोली की हल्दी में करक्यूमिन (curcumin) की मात्रा काफी अधिक है। उत्तराखंड के वैज्ञानिकों ने हल्दी पर किए […]