बड़ी खबर व्‍यापार

दिग्‍गज आईटी कंपनी टीसीएस 40 हजार फ्रेशर को देगी नौकरी

नई दिल्‍ली/बेंग्‍लुरु। कोविड-19 की महामारी के बीच भी रोजगार के र्मोचे पर अच्छी खबर है। देश की सबसे बड़ी आईटी कंपनी टाटा कंसल्‍टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) पिछले वर्ष तरह इस बार भी कैंपस से 40 हजार भर्तियां करेगी। ये जानकारी कंपनी के ईवीपी और ग्लोबल एचआर हेड मिलिंद लक्कड़ ने सोमवार को दी।

इसके साथ ही कंपनी ने इस वर्ष अमेरिका में कैंपस से करीब 2 हजार भर्तियां करने की योजना बनाई है। बता दें कि ये संख्या पिछले वित्त वर्ष की तुलना में दोगुना है। इसका मकसद एच-1बी और एल-1 वर्क वीजा पर निर्भरता कम करना है, जिन्हें हासिल करना मुश्किल होता जा रहा है। कोविड-19 की वजह से जून तिमाही में टीसीएस के राजस्व में भारी गिरावट आई थी। इसके बावजूद कंपनी ने इस बार भी कैंपस से 40 हजार भर्तियां करने का फैसला किया है।

टीसीएस के ईवीपी और ग्लोबल एचआर हेड मिलिंद लक्कड़ ने कहा कि नींव से शुरुआत करने की हमारी रणनीति में कोई बदलाव नहीं आया है। भारत में हम 40 हजार भर्तियां करेंगे। ये संख्या 35 हजार या 45 हजार भी हो सकती है। यह एक टेक्टिकल कॉल होगा। कंपनी को उम्मीद है कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में बिजनेस पटरी पर लौटेगा।

उल्‍लेखनीय है कि भारत में कंपनी ने पिछले वर्ष 40 हजार कैंपस भर्तियां की थी। ये फ्रेशर जुलाई के मध्य में कंपनी से जुड़ना शुरू हो जाएंगे। इनमें से 87 फीसदी पहले से ही अपने लर्निंग प्लेटफॉर्म पर ऐक्टिव हैं। वहीं, लगभग 8 हजार से 11 हजार रिक्रूट्स (भर्तियों) का हर हफ्ते ऑनलाइन एसेसमेंट लिया जाता है, जबकि 8 हजार से अधिक फ्रेशर ज्‍वाइनिंग से पहले ही एक या दो डिजिटल सर्टिफिकेशन पूरा कर चुके हैं। इसके अलावे कंपनी विभिन्न पदों पर 100 से अधिक अनुभवी पेशेवरों की भर्ती कर रही है, जबकि पिछली तिमाही में इन पदों पर कंपनी ने मामूली भर्तियां की थी। (एजेंसी, हि.स.)

Next Post

चीन ने अमेरिका के राजनयिकों पर लगाया वीजा प्रतिबंध

Mon Jul 13 , 2020
चीन ने ये जवाबी कदम अमेरिका द्वारा झिनजियांग पर प्रतिबंध लगाने के कदम के बाद उठाया है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का कहना है कि अमेरिका के अधिकारियों ने जिस तरह का व्यवहार बीजिंग के साथ किया है उससे चीन-अमेरिका संबंध पूरी तरह बर्बाद होने की कगार पर आ गया है। चीनी विदेश मंत्रालय […]