व्‍यापार

अगर अपने लिए Credit Card लेना चाहते है? तो ज़रूर जाने ये अहम बातें

मुंबई। क्रेडिट कार्ड (Credit Card) के इस्तेमाल में लगातार तेजी आ रही है। बड़े शहरों के साथ-साथ छोटे शहरों में भी इसके जरिए शॉपिंग (Shopping), ट्रैवलिंग, एंटरटेनमेंट आदि खर्चों का पेमेंट किया जा रहा है। कस्टमर्स की विभिन्न जरूरतों के लिए क्रेडिट कार्ड की वाइड रेंज मौजूद है, जिन्हें बैंक (Bank), NBFCs ने कुछ कैटेगरी में बांट रखा है। ग्राहक अपनी सहूलियत और खर्चों के आधार पर अपनी जरूरत का क्रेडिट कार्ड चुन सकते हैं।

विभिन्न कैटेगरी के क्रेडिट कार्ड के फीचर्स और फायदे अलग-अलग रहते हैं। ग्राहक (Grahak) को क्रेडिट कार्ड लेने से पहले विभिन्न प्रकार के क्रेडिट कार्ड पर मौजूद फीस और शुल्क पर ध्यान देना चाहिए। ग्राहक को पहले अपनी वित्तीय जरूरतों का आकलन करना चाहिए और फिर उसी के अनुसार सही क्रेडिट कार्ड चुनना चाहिए।

बिजनेस क्रेडिट कार्ड और प्रीमियम क्रेडिट कार्ड : बिजनेस क्रेडिट कार्ड विशेष रूप से बिजनेस यूज के लिए हैं ताकि बिजनेस और पर्सनल (Bijnes and Parsonal) खर्च अलग रहें। वहीं प्रीमियम क्रेडिट कार्ड गोल्फ क्लब्स, एयरपोर्ट लाउंजेस, इंश्योरेंस और कन्सीर्ज सर्विस की फ्री (Free) एक्सेस उपलब्ध कराते हैं। ये कार्ड कॉम्प्लिमेंटरी ट्रैवल व होटल एकोमोडेशन कूपन्स के साथ भी आते हैं। हर किसी को प्रीमियम कार्ड को रखने की मंजूरी नहीं मिलती है।

बेसिक क्रेडिट कार्ड और किसान क्रेडिट कार्ड : बेसिक क्रेडिट कार्ड उन लोगों के लिए अच्छा रहता है, जो पहली बार क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने जा रहे हैं। ऐसे क्रेडिट कार्ड रीजनेबल क्रेडिट लिमिट और रेगुलर फीचर्स के साथ आते हैं। कार्ड से ट्रांजेक्शन पर अतिरिक्त फायदे ऐसे कार्ड के फीचर्स में शामिल नहीं होते हैं लेकिन आमतौर पर इनकी सालाना फीस कम रहती है। किसान क्रेडिट कार्ड की बात करें तो यह कार्ड कुछ प्रमुख बैंकों द्वारा दिए जा रहे क्रेडिट कार्डों में जोड़ा गया एक नया विकल्प है। किसान क्रेडिट कार्ड ग्रामीण किसानों को दिए जाते हैं ताकि वे पसंदीदा ब्याज दरों पर क्रेडिट ले सकें।

सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड और स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड : सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड फिक्स्ड डिपॉजिट के बदले में दिया जाता है और आमतौर पर कार्ड की क्रेडिट लिमिट एफडी के 85% के बराबर रहती है। अगर ग्राहक भविष्य में क्रेडिट कार्ड के बिल भुगतान में कोई डिफॉल्ट करता है तो बैंक ग्राहक की एफडी बंद कर सकता है।

सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड आम क्रेडिट कार्ड की तरह काम करता है और एफडी पर आपको ब्याज भी मिलता रहता है। स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड की बात करें तो ये सिर्फ उन्ही स्टूडेंट्स के लिए होते हैं, जो कम से कम 18 वर्ष की उम्र या उस से ज्यादा के हैं और शिक्षा संस्थानों में फुल टाइम कोर्स के लिए दाखिला ले चुके हैं। स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड में अन्य फुल फ्लेज्ड क्रेडिट कार्ड के मुकाबले शर्तें और ब्याज दर कम रहती है।

रिवॉर्ड क्रेडिट कार्ड और कैशबैक क्रेडिट कार्ड : सामान्य से अतिरिक्त रिवॉर्ड देने वाले क्रेडिट कार्ड्स को रिवार्ड्स क्रेडिट कार्ड कहते हैं। ऐसे कार्ड में विशिष्ट खरीद और ट्रांजेक्शन पर बढ़े हुए रिवॉर्ड प्वॉइंट्स मिलते हैं। इन बोनस प्वॉइंट्स को भविष्य की खरीद पर छूट के लिए रिडीम कर सकते हैं या मासिक क्रेडिट कार्ड बिलों को कम करने के लिए रिडीम कर सकते हैं।

कुछ बैंक कैशबैक क्रेडिट कार्ड (Cashback Credit Catd) की पेशकश भी करते हैं, जिनमें कार्ड से खरीदारी के अमाउंट (Amount) के आधार पर एक निश्चित परसेंटेज के बराबर कैशबैक दिया जाता है। इसे ऐसे भी समझ सकते हैं कि रिवॉर्ड के बजाय सीधे कैशबैक मिलता है, लेकिन इनके साथ बैंकों की कुछ शर्तें लागू रहती हैं।

शॉपिंग क्रेडिट कार्ड और को-ब्रांडेड क्रेडिट कार्ड : शॉपिंग क्रेडिट कार्ड लाइफस्टाइल बेनिफिट्स जैसे कपड़े, जूते आदि वस्तुओं पर मिलने वाली छूट पर बेस्ड हैं। यह वेरिएंट उनके लिए अच्छा है, जो बार-बार खरीदारी करते हैं या मासिक खर्चों का भुगतान क्रेडिट कार्ड से करना चाहते हैं। शॉपिंग क्रेडिट कार्ड से खरीदारी या ट्रांजेक्शन पर छूट लेने के लिए पार्टनर स्टोर पर ऑनलाइन या ऑफलाइन खरीदारी करनी होती है।

साल भर कैशबैक, डिस्काउंट वाउचर आदि का फायदा मिलता है। को-ब्रांडेड क्रेडिट कार्ड से अर्थ है ऐसे कार्ड जो एयरलाइन, होटल, स्टोर या अन्य ब्रांड्स के साथ को-ब्रांडेड होते हैं। बैंक ब्रांड्स के साथ साझेदारी कर को ब्रांडेड क्रेडिट कार्ड लाते हैं। जब कार्डधारक पार्टनर ब्रांड्स पर क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करते हैं तो अतिरिक्त रिवॉर्ड पॉइंट और कैशबैक मिलता है।

फ्यूल क्रेडिट कार्ड और ग्रॉसरी क्रेडिट कार्ड : फ्यूल क्रेडिट कार्ड से व्हीकल में फ्यूल भरवाने पर फ्यूल सरचार्ज छूट और बोनस रिवॉर्ड पॉइंट के रूप में अतिरिक्त लाभ मिलता है। कुछ बैंक विशिष्ट पेट्रोल पम्प कंपनियों के साथ साझेदारी रखते हैं। ऐसे में संबंधित बैंक के क्रेडिट कार्डधारक को तभी छूट मिलती है जब वह उन विशिष्ट पेट्रोल पम्पों से फ्यूल भरवाता है।

वहीं कुछ बैंक ये छूट सभी पेट्रोल पम्प कंपनियों पर लागू करते हैं। सरचार्ज छूट इस बात पर निर्भर करती है कि ग्राहक के पास किस तरह का कार्ड है। क्रेडिट कार्ड के जरिए ज्यादातर ग्रॉसरी खरीदने वालों के लिए ग्रॉसरी क्रेडिट कार्ड विकल्प है। ये कार्ड चुनिंदा सुपरमार्केट और डिपार्टमेंटल स्टोर पर अतिरिक्त रिवॉर्ड पॉइंट या कैशबैक ऑफर करते हैं, जिससे ग्रॉसरी खरीदारी पर पैसे बचाए जा सकते हैं।

ट्रैवल क्रेडिट कार्ड और एंटरटेनमेंट क्रेडिट कार्ड : कई बैंक ट्रेवल-सेंट्रिक क्रेडिट कार्ड मुहैया कराते हैं। ये क्रेडिट कार्ड एयरपोर्ट लाउंज का उपयोग, एयर माइल अर्निंग, हवाई दुर्घटना बीमा, कम विदेशी मुद्रा चिह्न शुल्क आदि जैसी यात्रा संबंधी विशेषताओं से लैस होते हैं और सभी सामान्य लाभों को भी ऑफर करते हैं।

ट्रैवल क्रेडिट कार्ड से हर खरीद पर रिवॉर्ड प्वॉइंट्स मिलते हैं और एयरलाइन टिकट बुकिंग, बस और रेल टिकट बुकिंग, कैब बुकिंग आदि पर छूट रहती है। जो लोग फिल्मों, कॉन्सर्ट और इवेंट्स में जाना पसंद करते हैं उनके लिए एंटरटेनमेंट क्रेडिट कार्ड एक अच्छा विकल्प है। इससे मूवी टिकट बुक करने पर रिवॉर्ड पॉइंट और कैशबैक मिलता है। कुछ कार्ड ‘बुक माय शो’ जैसे प्लेटफॉर्म के साथ को-ब्रांडेड रहते हैं।

बैलेंस ट्रांसफर क्रेडिट कार्ड : इस प्रकार का कार्ड आमतौर पर किसी एक कार्ड की बकाया राशि का भुगतान दूसरे कार्ड से करने के लिए खरीदा जाता है। अगर आपके किसी कार्ड पर ब्याज दर उच्च है तो आप उसके द्वारा चुकाए जाने वाले क्रेडिट को बैलेंस ट्रांसफर क्रेडिट कार्ड में शिफ्ट कर सकते हैं। इस श्रेणी में कई कार्ड ब्याज मुक्त समय अवधि या फिर एक निश्चित अवधि के लिए कम ब्याज दर की सुविधा भी देते हैं।

Next Post

कोरोना पर भारी पड़ती भारतीय आईटी सेक्टर की रफ्तार

Fri Feb 26 , 2021
– आर.के. सिन्हा कोरोना काल ने विश्वभर के सभी इंसानों और उद्योग-धंधों को तगड़े आघात दिए। बहुत सारे नौकरीपेशा लोगों के वेतन में कटौती से लेकर लोगों को नौकरी से हाथ तक धोना पड़ा, तो तमाम उद्योग-धंधे घाटे में बने रहे। उत्पादन और मांग दोनों घटे। यानी स्थिति सबके लिये बेहद कष्टप्रद रही। पर कोरोना […]