बड़ी खबर व्‍यापार

भारत ने गेहूं के निर्यात पर तुरंत लगाया प्रतिबंध, अधिसूचना जारी

नई दिल्‍ली। भारत (India) ने तत्काल प्रभाव से गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध (ban on export of wheat) लगा दिया है। बता दें कि रूस-यूक्रेन युद्ध (Russo-Ukraine War) के बीच आटा की बढ़ती कीमत के मद्देनजर केंद्र सरकार ने गेहूं के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। गेहूं को फ्री कैटगरी (wheat free category) से प्रतिबंधि श्रेणी में रखा गया है। सरकार ने देश की खाद्य सुरक्षा के मद्देनजर यह कदम उठाया है।
बता दें कि सरकार ने शुक्रवार देर रात जारी एक अधिसूचना में इसे दुनिया के दूसरे सबसे बड़े गेहूं उत्पादक देश के द्वारा स्थानीय कीमतों पर लगाम लगाने की एक कोशिश कर दिया है। सरकार ने कहा है कि पहले जारी किए जा चुके लेटर ऑफ क्रेडिट के लिए गेहूं के शिपमेंट की अनुमति रहेगी।


विदित हो कि फरवरी के अंत में रूस द्वारा यूक्रेन पर आक्रमण करने के बाद से काला सागर क्षेत्र से निर्यात गिरने के बाद वैश्विक खरीदार गेहूं की आपूर्ति के लिए भारत पहुंच रहे थे। इससे पहले केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने 15 अप्रैलको एक ट्वीट में कहा था कि भारतीय किसान दुनिया के पेट भर रहे हैं। मिस्र ने भारत से गेहूं के इम्पोर्ट को मंजूरी दी है। दुनिया में बढ़ती मांग को देखते हुए वित्त वर्ष 2022-23 में गेहूं का निर्यात 100 लाख (10 मिलियन) टन पार कर जाएगा।
बताया जा रहा है कि देश में चल रही एमएसपी से अधिक कीमत में गेहूं की खरीद और पैदावार में कमी के कारण सरकारी खरीद प्रभावित हुई है। सरकार ने अब गेहूं के निर्यात पर पाबंदी लगा दी है। आपको बता दें कि इन दिनों बाजार में गेहूं न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक कीमत पर बिक रहा ह।

Share:

Next Post

उत्तर कोरिया में कोरोना से हाहाकार, सैन्य शासक ने कहा- इतिहास की सबसे बड़ी चुनौती झेल रहा देश

Sat May 14 , 2022
प्योंगयांग। कोरोना ने अब उत्तर कोरिया में कहर बरपाना शुरू कर दिया है। देश में 17 हजार से ज्यादा नए संक्रमित मिले हैं और 21 और मौतें हुई हैं। हालात को देखते हुए सैन्य शासक किम जोंग उन भी सहम गए हैं। उत्तर कोरिया की सरकारी न्यूज एजेंसी केसीएन के अनुसार किम जोंग उन ने […]