बड़ी खबर

JNU में आज से PHD सहित कई और विद्यार्थियों की होगी वापसी, रेलवे आरक्षण काउंटर और कैंटीन भी खुले

नई दिल्ली । जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में आज यानि सोमवार से विज्ञान संकाय के पीएचडी तृतीय वर्ष और सभी स्कूल/ सेंटर के स्नातक एवं परास्नातक के दिव्यांग विद्यार्थियों को प्रयोगशालाओं और अन्य सुविधाओं के लिए परिसर में प्रवेश की अनुमति होगी। यह जेएनयू में फेज-10 के तहत विद्यार्थियों की वापसी होगी।

प्रशासन ने रेलवे आरक्षण काउंटर और कैंटीन को भी खोलने की अनुमति दे दी है। विश्वविद्यालय परिसर को विद्यार्थियों के लिए चरणबद्ध तरीके से खोलने के क्रम में प्रशासन ने रविवार को 10वें और 11वें चरण की अधिसूचना जारी की। 10वें चरण में 1 मार्च से केवल तृतीय वर्ष के विज्ञान पीएचडी छात्र और सभी स्कूल/केंद्रों (डे स्कॉलर्स और होस्टलर्स) से पीडब्ल्यूडी स्नातक एवं परास्नातक छात्र जिन्हें प्रयोगशाला और अन्य सुविधाओं के लिए परिसर में प्रवेश करने की अनुमति दी गई है। वहीं 11वें चरण में 8 मार्च से सभी अंतिम वर्ष के एम.फिल छात्र (डे स्कॉलर्स और होस्टलर्स) जिन्हें 30 जून, 2021 को या उससे पहले अपने शोध प्रबंध को प्रस्तुत करने के लिए परिसर में प्रवेश की आवश्यकता होती है। उन्हें कैंपस में प्रवेश की अनुमति होगी।

इसके अलावा विद्यार्थियों के लिए कैंटीन की सुविधा भी तत्काल प्रभाव से चालू करने की अनुमति दे दी गई है। मुगल दरबार (मेसर्स तौसीफ आलम) और (24×07) फूड कोर्ट (मैसर्स जगत सिंह) को छोड़कर सभी अधिकृत कैंटीनों को फिर से खोलने की अनुमति है। केंद्र सरकार के नियमों के मानक परिचालन निवारक उपायों के अनुसार रेलवे आरक्षण काउंटर को फिर से खोलने की तत्काल प्रभाव से अनुमति दी गई है। इसके अलावा धोबी, मोची, जेरोक्स, हेयर कटिंग सैलून जैसी दुकानों को फिर से खोलने की अनुमति दी गई है।

बैठकें, जहां तक ​​संभव हो, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित की जा सकती हैं और फिजिकल बैठकें यदि केंद्र सरकार के नियमों के मानक संचालन निवारक उपायों के अनुसार छात्रों/कर्मचारियों/संकायों के हित में आवश्यक हों तो डीन / अध्यक्ष द्वारा आश्वासन के बाद तत्काल प्रभाव से अनुमति दी जाती हैं।

Share:

Next Post

आखिरकार रूस से सुलझा एके-203 राइफल की कीमत का मुद्दा, यह है इनकी खासियत

Mon Mar 1 , 2021
नई दिल्ली । आखिरकार एक दशक बाद भारतीय सेना की स्वदेशी आधुनिक असॉल्ट राइफल की तलाश पूरी होने वाली है जो इंसास राइफल की जगह लेगी। रूस के सहयोग से बनाई जाने वाली एके-203 की कीमत को लेकर फंसा पेंच दो साल की लंबी वार्ता के बाद सुलझ गया है और जल्द ही हस्ताक्षर किए […]