विदेश

नेपाल में दिलचस्प हुआ राष्ट्रपति चुनाव, आखिरी दिन दो उम्मीदवारों ने दाखिल किया नामांकन

काठमांडू। नेपाल में अगले महीने नौ मार्च को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के लिए लड़ाई दिलचस्प हो गई है। शनिवार को नामांकन भरने के आखिरी दिन दो उम्मीदवारों ने राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए प्रचा दाखिल किया। नेपाल की प्रतिनिधि सभा (संसद) के पूर्व अध्यक्ष सुभाष चंद्र नेम्बवांग (Subash Chandra Nembwang) ने शनिवार को राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना नामांकन दाखिल किया। इससे पहले दिन में राम चंद्र पौड्याल (Ram Chandra Poudel) ने राष्ट्रपति पद के लिए अपना नामांकन दाखिल किया था। पौड्याल नेपाली संसद के अध्यक्ष रह चुके हैं।

नामांकन दाखिल करने के दौरान दोनों नेताओं ने शक्ति प्रदर्शन किया और समर्थक दलों के नेताओं के साथ संसद पहुंचकर निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय में प्रचा भरा। पूर्व प्रधानमंत्री व यूएमएल अध्यक्ष केपी शर्मा ओली, उप महासचिव पृथ्वी सुब्बा गुरुंग, सचिव गोकर्ण राज बिष्ट, रघुबीर महासेठ और छबीलाल बिश्वकर्मा ने नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी-यूनिफाइड मार्क्सिस्ट लेनिनिस्ट (सीपीएन-यूएमएल) के उपाध्यक्ष नेम्बवांग की उम्मीदवारी का प्रस्ताव दिया। पार्टी के अन्य नेताओं योगेश भट्टराई, शीर्ष बहादुर रायमाझी, जूली कुमारी महासेठ, दिल कुमारी रावल थापा और अमन कुमार मास्की ने प्रस्ताव का समर्थन किया।

सीपीएन-यूएमएल के अध्यक्ष केपी शर्मा ओली ने इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमने सभी प्रक्रियाओं का पालन करते हुए उम्मीदवारी दाखिल की है और पंजीकरण प्रमाणपत्र भी मिल गया है। हमें पूरा विश्वास है कि हम राजनीतिक करने के बजाय राष्ट्रहित के लिए काम करेंगे, लोगों और राष्ट्र की भलाई के लिए, संविधान की रक्षा और उसके कार्यान्वयन के लिए हमने उम्मीदवार उतारा है।


बता दें, शनिवार सुबह सीपीएन-यूएमएल की केंद्रीय समिति की बैठक हुई थी, जिसमें नेम्बवांग को राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवार बनाने का फैसला किया गया था। साथ ही पार्टी ने नेम्बवांग के लिए समर्थन जुटाने के लिए नेपाली कांग्रेस को छोड़कर अन्य दलों से बात करने का भी फैसला किया है।

राम चंद्र पौड्याल को नेपाली कांग्रेस समेत आठ दलों का समर्थन
संसद में सबसे बड़ी पार्टी नेपाली कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेता राम चंद्र पौड्याल को राष्ट्रपति चुनाव के लिए मैदान में उतारा है। पौड्याल की उम्मीदवारी का प्रस्ताव नेपाली कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शेर बहादुर देउबा, सीपीएन (एयूनिफाइड सोशलिस्ट) के अध्यक्ष माधव कुमार नेपाल, सीपीएन-माओवादी सेंटर के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नारायण काजी श्रेष्ठ, जनता समाजवादी पार्टी के संघीय परिषद के अध्यक्ष अशोक राय और जनमत पार्टी के अब्दुल खान ने दिया।

उम्मीदवारी का समर्थन लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष महंत ठाकुर, कांग्रेस उपाध्यक्ष पूर्ण बहादुर खड़का, नागरिक उन्मुक्ति पार्टी की अध्यक्ष रंजीता श्रेष्ठ, राष्ट्रीय जनमोर्चा के अध्यक्ष चित्रा बहादुर केसी और माओवादी केंद्र के हितराज पांडे ने किया। नामांकन दाखिल करने के बाद पौड्याल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि संविधान की रक्षा और इसे प्रभावी तरीके से लागू करना तथा संघीय गणराज्य को संस्थागत बनाना समय की जरूरत है। हम इसके लिए काम करेंगे।

Share:

Next Post

उत्तर कोरिया में घट रहा अनाज उत्पादन, भुखमरी की तरफ देश; 'किम जोंग' पर सत्ता बचाने की चुनौती

Sun Feb 26 , 2023
नई दिल्ली। दुनिया के तमाम देशों के साथ ही उत्तर कोरिया में भी खाद्य संकट गहराता जा रहा है। कोरोना महामारी के बाद यहां तेजी से भोजन की कमी हो रही है। कुछ रिपोर्टों में कहा गया है कि उत्तर कोरियाई क्षेत्र में एक बड़ी आबादी भुखमरी का शिकार हो रही है, लेकिन विशेषज्ञ इन […]