जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

शुगर के 50% मरीजों को नर्व डैमेज का खतरा! हर हाल में डायबिटीज करें कंट्रोल, वरना…

डेस्क: डायबिटीज बेहद गंभीर बीमारी है और दुनियाभर में महामारी की तरह पैर पसार रही है. भारत में डायबिटीज के 10 करोड़ से ज्यादा मरीज हैं और करीब 15 करोड़ लोगों पर इस बीमारी का खतरा मंडरा रहा है. आंकड़ों के लिहाज से देखें तो देश की बड़ी आबादी पर डायबिटीज कहर बरपा रही है. डायबिटीज होने पर लोगों का ब्लड शुगर तेजी से बढ़ जाता है और इसे कंट्रोल करने के लिए दवाएं व इंसुलिन लेनी पड़ती है. डायबिटीज सुनने में भले ही साधारण सी बीमारी लगती है, लेकिन यह शरीर को बेहद तेजी से खोखला बना देती है.

हेल्थ डिपार्टमेंट की डॉ. ने बताया कि डायबिटीज के मरीजों को ब्लड शुगर कंट्रोल करने की हरसंभव कोशिश करनी चाहिए, क्योंकि लंबे समय तक ब्लड शुगर अनकंट्रोल रहे, तो यह शरीर के नर्वस सिस्टम पर अटैक करना शुरू कर देता है. बेकाबू ब्लड शुगर शरीर के अंगों की नर्व डैमेज करने लगता है, जिसे मेडिकल की भाषा में डायबिटिक न्यूरोपैथी कहा जाता है. यह एक गंभीर कंडीशन होती है, जिसकी चपेट में आने से शुगर के मरीजों की मौत का खतरा कई गुना बढ़ सकता है.


डॉक्टर ने बताया कि डायबिटीज की बीमारी से जूझ रहे सभी लोगों को डायबिटिक न्यूरोपैथी का खतरा होता है और कोई भी चपेट में आ सकता है. हालांकि जिन लोगों का शुगर लेवल लगातार हाई रहता है और उन्हें लंबे समय से डायबिटीज है, तो नर्व डैमेज का रिस्क बढ़ जाता है. शुगर के जिन मरीजों का वजन ज्यादा है या जो लोग मोटापे से जूझ रहे हैं, ऐसे लोगों को डायबिटिक न्यूरोपैथी को लेकर ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए. 40 साल से ज्यादा उम्र के डायबिटिक लोगों को भी नर्व डैमेज का खतरा होता है. हाई बीपी और हाई कोलेस्ट्रॉल भी डायबिटीज में इसका खतरा बढ़ा देते हैं.

यूएस के नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन की रिपोर्ट बताती है कि टाइप 2 डायबिटीज के 50% मरीज डायबिटिक न्यूरोपैथी का शिकार हो जाते हैं, जबकि टाइप 1 डायबिटीज के 28 फीसदी मरीज नर्व डैमेज का सामना कर रहे हैं. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि शुगर के करोड़ों मरीजों पर नर्व डैमेज का खतरा मंडरा रहा है. इससे बचने के लिए लोगों को अपना ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करना चाहिए और इसकी नियमित रूप से मॉनिटरिंग करनी चाहिए. शुगर कंट्रोल करने में डाइट, फिजिकल एक्टिविटी और दवा का अहम योगदान होता है.

Share:

Next Post

अगर पेपर रद्द तो नहीं होगी काउंसिंल, हाईकोर्ट की सुनवाई पर भी रोक; NEET परीक्षा पर बोला सुप्रीम कोर्ट

Thu Jun 20 , 2024
नई दिल्ली: नीट यूजी 2024 एग्जाम को लेकर दायर याचिकाओं पर आज यानी गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. NEET परीक्षा पर सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा दखल देते हुए कहा कि देश के अलग-अलग हाईकोर्ट में मामले की सुनवाई नहीं होगी. सुप्रीम कोर्ट ने काउंसलिंग पर फिर रोक लगाने से इनकार किया. अदालत ने […]