विदेश

पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल असीम मुनीर पर प्रतिबंध लगा सकता है अमेरिका, जानें वजह


वॉशिंगटन: पाकिस्‍तान (Pakistan) के आर्मी चीफ (Army Chief ) जनरल असीम मुनीर (General Asim Munir) के खिलाफ अमेरिका (America) प्रत‍िबंध लगा सकता (impose sanctions) है। इस प्रतिबंध की वजह बनने जा रहे हैं भारतीय मूल के अमेरिकी सांसद रो खन्‍ना (MP Ro Khanna)। सांसद रो खन्‍ना ने पाकिस्‍तान के असली शासक जनरल असीम मुनीर के खिलाफ मानवाधिकारों के उल्‍लंघन को लेकर अमेरिका सरकार से प्रतिबंध लगाने की मांग की है। वहीं एक अन्‍य अमेरिकी सांसद ग्रेग कसार ने भी जनरल मुनीर के खिलाफ प्रतिबंध लगाने की मांग की है। उन्‍होंने अमेरिकी नीतियों में संशोधन करने की मांग की है जिससे आने वाले समय में पाकिस्‍तान को हथियार मिलने में दिक्‍कत आ सकती है।


रो खन्‍ना ने अमेरिका सरकार से मांग की है कि पाक‍िस्‍तानी सेना प्रमुख और अन्‍य सैन्‍य कमांडरों के खिलाफ अंतरराष्‍ट्रीय दमन के अपराध के लिए प्रतिबंध लगाने की मांग की है। उन्‍होंने कहा कि हम सभी जानते हैं कि पाकिस्‍तान में हुए चुनाव में धांधली की गई थी और इमरान खान अभी भी जेल में हैं। खन्‍ना ने असीम मुनीर को पाकिस्‍तानी सेना प्रमुख की जगह सैन्‍य शासक करार दिया है। असीम मुनीर अब अमेरिका में लोकतंत्र समर्थक पाकिस्‍तानी लोगों के परिवार को निशाना बना रहे हैं। रो खन्‍ना ने कहा कि हमें पता है कि इमरान खान जेल में हैं और हमें तत्‍काल पाकिस्‍तानी सेना प्रमुख और उनके मददगारों को प्रतिबंध लगाना चाहिए।

इमरान समर्थकों पर मुनीर चला रहे हैं डंडा

बता दें कि जनरल मुनीर के राज में इमरान समर्थकों को जमकर निशाना बनाया जा रहा है। पीटीआई के नेता शहबाज गिल के भाई का अपहरण कर लिया गया है। जनरल मुनीर के विरोधियों को निशाना बनाने के लिए ऐसे लोगों के परिवार को डराया जा रहा है। उधर, एक अन्‍य सांसद ग्रेग कसार ने अमेरिकी नीतियों में बदलाव का प्रस्‍ताव दिया है ताकि पाकिस्‍तानी सेना को जिम्‍मेदार ठहराया जा सके जो भयंकर भ्रष्‍टाचार और मानवाधिकार उल्‍लंघनों के लिए जिम्‍मेदार है। ये बदलाव सभी तरह के अमेरिकी सैन्‍य मदद को तब त‍क रोक देंगे जब तक कि शर्तों को पाकिस्‍तानी सेना पूरा नहीं करती है।

सांसद ग्रेग ने कहा कि हमारी शर्त स्‍वतंत्र और निष्‍पक्ष चुनाव, न्‍यायपालिका की धमकी को बंद करना और न्‍यायपालिका की निष्‍पक्षता को बहाल करना है। पाकिस्‍तानी पत्रकार वजाहत सईद खान का कहना है कि यह बहुत बड़ा कदम है जिसे पाकिस्‍तानी सेना प्रमुख के खिलाफ उठाया गया है। वह भी तब जब इमरान खान जेल में हैं। इमरान समर्थकों का कहना है कि चुनाव में उन्‍हें जीत मिली थी लेकिन सेना प्रमुख के इशारे पर शहबाज शरीफ की सरकार बना दी गई। अब इमरान खान को लंबे समय तक जेल में ही रखने की योजना है।

Share:

Next Post

चारधाम यात्रा के कचरे ने कर दिया मालामाल, नगर पालिका ने कमाए 1 करोड़; जानिए कैसे

Mon Jun 17 , 2024
चमोलीः उत्‍तराखंड में चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं का रेला लगा है. भीड़ की वजह से स्‍थानीय लोग ट्रैफिक जाम समेत कई दूसरी समस्‍याओं से जूझ रहे हैं. इन सब के बीच जोशीमठ नगर पालिका मालामाल हो गई. दरअसल, जोशीमठ नगर पालिका ने प्‍लास्टिक कचरे की रिसाइकिलिंग के जरिये एक करोड़ से ज्‍यादा की […]