विदेश

चीन ने पाकिस्तान की उम्मीदों पर फेरा पानी, दौरे से खाली हाथ लौटे PM शहबाज शरीफ!

नई दिल्ली (New Delhi)। करीबी दोस्त माने जाने वाले चीन (China) ने पाकिस्तान (Pakistan) की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है. पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ (Prime Minister Shahbaz Sharif) को चीन (China) की अपने हालिया दौरे से खाली हाथ लौटना पड़ा है। शहबाज चीन इस उम्मीद से गए थे कि चीन (China) पाकिस्तान (Pakistan) में बड़े निवेश (Big investments) की घोषणा करेगा लेकिन उन्हें चीन (China) में उन्हें मुलाकातों के अलावा कुछ हासिल नहीं हुआ।


पाकिस्तानी मीडिया ने पिछले महीने रिपोर्टों में कहा था कि शरीफ 4 जून से शुरू होने वाली अपनी पांच दिवसीय चीन यात्रा के दौरान चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कोरिडोर (CPEC 2.0) के दूसरे चरण के औपचारिक शुभारंभ में शामिल होने वाले थे. पाकिस्तान पिछले कई सालों से गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहा है जिससे निकलने के लिए शरीफ चीन के साथ नए इंफ्रास्ट्रक्चर और एनर्जी डील करने की कोशिश कर रहे थे. इसी क्रम में उन्होंने मार्च में प्रधानमंत्री पद संभालने के बाद पहली बार चीन की यात्रा की।

चीन दौरे में शहबाज शरीफ और उनके कैबिनेट मंत्री राष्टपति शी जिनपिंग और चीन के शीर्ष अधिकारियों से राजधानी बीजिंग में मिले. लेकिन इन मुलाकातों को कोई खास फायदा पाकिस्तान को नहीं मिला. Nikkei Asia ने मंगलवार को एक रिपोर्ट में बताया कि पाकिस्तान को इन मुलाकातों से मामूली फायदा हुआ।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तानी अधिकारियों का यह दावा कि CPEC डील का उन्नत संस्करण औपचारिक रूप से बीजिंग में लॉन्च किया जाएगा, सच साबित नहीं हुआ।

कथित तौर पर चीन ने पाकिस्तान के साथ पहले वाली गर्मजोशी नहीं दिखाई और उसकी प्रतिक्रिया फीकी रही. मुलाकातों के बाद दोनों देशों के 32 सूत्रीय संयुक्त बयान से पता चला कि पाकिस्तान को मामूली फायदा हुआ है. पाकिस्तान ने जहां CPEC को लेकर हौआ खड़ा किया था, वहीं बयान में इसका उल्लेख भर था और वो भी अस्पष्ट तरीके से।

संयुक्त बयान में कहा गया, ‘दोनों पक्षों ने माना कि CPEC बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) का एक अग्रणी प्रोजेक्ट रहा है. CPEC ने सफलतापूर्वक एक दशक पूरा कर लिया है और दोनों पक्ष उच्च गुणवत्ता वाले बेल्ट और रोड सहयोग को आगे बढ़ाने के लिए बड़े कदम उठाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

चीन दौरे से शहबाज शरीफ को क्या हुआ हासिल?
संयुक्त बयान से पता चलता है कि शहबाज शरीफ अपने चीन दौरे में कुछ मामूली लाभ हासिल करने में कामयाब रहे. चीन 6.7 अरब डॉलर के मेन-लाइन-1 (एमएल-1) रेलवे प्रोजेक्ट को चरणों में आगे बढ़ाने पर सहमत हो गया है. इस प्रोजेक्ट का मकसद दक्षिणी पाकिस्तानी के बंदरगाह शहर कराची और देश के उत्तर में पेशावर के बीच तीन चरणों में रेलवे इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार करना है. हालांकि, चीन केवल प्रोजेक्ट के पहले चरण के लिए राजी हुआ है।

दोनों पक्ष काराकोरम हाइवे के एक हिस्से को उन्नत करने पर राजी हुए है. यह हाईवे पहाड़ी इलाकों के जरिए पाकिस्तान को चीन से जोड़ता है. सर्दियों के दौरान भारी बर्फबारी से यह हाईवे बंद हो जाता है जिसका रास्ता निकालने के लिए दोनों पक्षों में सहमति बनी है. मई में, पाकिस्तान ने चीन से मांग की थी कि वो अपने इंफ्रास्ट्रक्चर और एनर्जी प्रोजेक्ट्स के लिए उसे अतिरिक्त 17 अरब डॉलर की फंडिंग दे।

Share:

Next Post

G7 Summit: ट्रूडो से आमने-सामने होंगे PM मोदी, उठा सकते हैं अलगाववाद का मुद्दा

Thu Jun 13 , 2024
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) और कनाडा (Canada) के पीएम जस्टिन ट्रूडो (PM Justin Trudeau) शुक्रवार को इटली में जी7 शिखर सम्मेलन (G7 summit) के दौरान आमने-सामने होंगे। केंद्र सरकार (Central government) ने इस बात को दोहराया है कि कनाडा के साथ भारत का मुख्य मुद्दा हिंसा और उग्रवाद की वकालत करने वाले […]