बड़ी खबर

लॉरेंस बिश्नोई गैंग में किस तरह होती है गुर्गों की भर्ती, क्राइम ब्रांच ने किया यह दावा, जानकर उड़ जाएंगे होश

नई दिल्ली: कुख्यात लॉरेंस बिश्नोई के गैंग में हिप्नोटाइज (सम्मोहित) कर बंपर भर्तियां की जा रही हैं. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने अपनी तफ्तीश के दौरान यह दावा किया है. क्राइम ब्रांच का कहना है कि लॉरेंस बिश्नोई गैंग में बाकायदा प्लेसमेंट एजेंसी की तर्ज पर युवा और नाबालिग लड़के धड़ल्ले से भर्ती किये जा रहे हैं.

क्राइम ब्रांच ने दावा किया है कि नरेश शेट्टी वो शख्स है जो युवाओं और नाबालिग लड़कों को हिप्नोटाइज कर लॉरेंस बिश्नोई गैंग में भर्ती कर रहा है. यह यही गैंगस्टर है जो लॉरेंस बिश्नोई के साथ साये की तरह लगा रहता है. कई सालों से नरेश शेट्टी के कंधों पर ही लॉरेंस बिश्नोई गैंग को मैन पॉवर के बल पर बड़ा करने का टास्क है.

हाल ही में क्राइम ब्रांच की पूछताछ में यह सनसनीखेज खुलासा हुआ है. जिसमें पता चला है कि प्लेसमेंट एजेंसी की तर्ज पर चाहे दिल्ली, हरियाणा, पंजाब की जेल हो या फिर सोशल मीडिया प्लेटफार्म, नरेश शेट्टी जहां जहां मौजूद रहा वहां उसने अपने हिप्नोटिज्म के गुर से दर्जनों नाबालिग लड़कों की भर्ती गैंग के लिए की. ये दावा खुद नरेश शेट्टी ने क्राइम ब्रांच के सामने किया है.

क्राइम ब्रांच के अधिकारी बताते हैं कि नरेश शेट्टी बिल्कुल इस तरह से नाबालिग लड़कों से बात करता है जैसे वो उनको हिप्नोटाइज कर रहा है. कुछ देर की बातचीत या मुलाकात के बाद नाबालिग बड़ी आसानी से लॉरेंस बिश्नोई गैंग में शामिल हो जाता है.

नरेश शेट्टी ने बताया कि वो देश की जिस जेल में बंद रहा वहां उसने छोटे मोटे जुर्म करने वाले कैदियों खासकर नाबालिग या युवाओं से दोस्ती बढ़ाई. फिर लॉरेंस बिश्नोई के किस्से कहानी सुनाकर गैंग के वर्चस्व का हवाला देकर, लॉरेंस की सोशल मीडिया वीडियो रील्स दिखाकर उऩको अपने वश में कर लेता था. इसके बाद उन नाबालिगों को गैंग के लिए भर्ती किया जाता था.


सूत्रों के मुताबिक आज लॉरेंस बिश्नोई गैंग के लिए कोई भी टास्क पूरा करने के लिए दो चार नहीं बल्कि करीब 500 नाबालिग देश भर की जेलों से सोशल मीडिया साइट्स के जरिए जुड़े हैं. नाबालिगों के कोड नाम डेविल, बॉबी, रॉकेट और गो गो सरीखे रखे जाते हैं. नरेश शेट्टी ऐसे नाम वाले अनगिनत लड़कों का सोशल मीडिया पर ब्रेन वॉश करता है. फिर जरूरत के अनुसार शराब कारोबारी से फिरौती, बिजनेसमैन से वसूली, वसूली न मिलने के एवज में उसके घर, दफ्तरों पर फायरिंग, टोल प्लाजा के मालिक, बड़े दवा कारोबारी, कार शो रूम के मालिक, बड़ी गारमेंट्स फैक्ट्री के मालिक से वसूली में इन्हीं नाबालिगों का इस्तेमाल किया जाता है. नरेश शेट्टी इस वक्त दिल्ली की तिहाड़ की जेल नंबर 15 में बंद है.

गैंगस्टर अक्षय कोई और नहीं बल्कि वशीकरण के माहिर नरेश शेट्टी का सगा भतीजा है. नरेश शेट्टी की बदौलत अक्षय का फर्जी पासपोर्ट हरियाणा से बनवाया गया जिसके बाद वह दुबई के रास्ते कैलिफ़ोर्निया पहुंचा और इस वक्त उसके पुर्तगाल में होने की खबर सुरक्षा एजेंसियों के हाथ लगी है. लॉरेंस बिश्नोई का यह नया पैंतरा करोड़ों की उगाही करवाने में सफल हो रहा है. अक्षय ने विदेश से फिरौती के लिए कई फोन कॉल्स दिल्ली एनसीआर में किए हैं.

हरियाणा की सुरक्षा एजेंसियां अक्षय को भारत लाने की पुरजोर कोशिश में जुटी हुई हैं, जिसको लेकर वह इंटरनेशनल एजेंसियों के संपर्क में भी हैं. क्योंकि अक्षय इस वक्त एक उभरता गैंगस्टर है और अगर उसे जल्द भारत नहीं लाया गया तो वह देखते-देखते इंटरनेशनल लेवल पर लॉरेंस के गैंग को और बड़ा कर सकता है. अक्षय का इस्तेमाल लॉरेंस बिश्नोई गैंग इसलिए कर रहा है क्योंकि उसके खिलाफ दिल्ली एनसीआर में महज कुछ ही मुकदमे दर्ज हैं और वह इतना लाइमलाइट में नहीं आया है. गोल्डी बरार और अनमोल बिश्नोई इंटरनेशनल लेवल पर एक्सपोज हो चुके हैं. इसलिए अब कमान अक्षय को सौंप दी गई है ताकि वह इंटरनेशनल ऑपरेशन संभाले.

Share:

Next Post

अब कुंवारों को हर महीने मिलेगी पेंशन, मनोहर लाल खट्टर सरकार ने पूरी की अविवाहितों की मांग

Fri Jul 7 , 2023
चंडीगढ़: अविवाहितों के लिए पेंशन योजना लागू किए जाने के बाद चिर लंबित मांग पूरी हो गई है. हरियाणा सरकार ने 45 से 60 साल की उम्र के निम्न आय वर्ग वाले अविवाहित व्यक्तियों के लिए 2750 रुपये प्रति माह पेंशन देने की घोषणा कर दी है. इसी तरह की एक योजना विधुर (ऐसे पुरुष, […]