जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

बारिश के मौसम नॉन वेज खाना सेहत के लिए हो सकता है खतरनाक, जानिए कैसे?

नई दिल्‍ली। बारिश (rain) के बाद मौसम सुहाना हो जाता है. मौसम का मज़ा उठाने के लिए लोग न जाने क्या-क्या करते हैं. कुछ लोग पसंदीदा खाना खाते हैं तो कुछ बारिश की बूंदों में भीगते हुए बाइक पर लॉंग ड्राइव पर निकल जाते हैं, लेकिन आपको इस मौसम में बहुत सावधान(Precaution) रहने की जरूरत है. बीमारियां और इंफेक्शन सबसे ज्यादा इसी सीजन में फैलते हैं. बारिश में खान-पान को लेकर बहुत ध्यान रखना चाहिए. जरा सी लापरवाही से आप बीमार पड़ सकते हैं. बारिश में पाचनक्रिया कमजोर हो जाती है. इसलिए हल्का और आसानी से पचने वाला खाना खाने की सलाह दी जाती है. मानसून में खासतौर से नॉनवेज खाने से बचना चाहिए. मांसाहारी खाने को पचाने में काफी वक्त लगता है. इसके अलावा ऐसे खाने से सबसे जल्दी इंफेक्शन होने का खतरा रहता है.

बारिश में नॉन वेज क्यों नहीं खाना चाहिए?
मानसून में नॉनवेज न खाने की एक धार्मिक वजह है कि ये सावन भगवान शिव का महीना होता है. इस महीने में लोग पूजा-पाठ और व्रत उपवास करते हैं. ऐसे में मांसाहारी खाने से दूर रहते हैं. अब बात करते हैं इसके पीछे के साइंटिफिक नजरिए की, जिसमें नॉन वेज फूड को देरी से पचने वाला और हाई प्रोटीन फूड माना जाता है. बारिश में पाचनतंत्र कमजोर होने की वजह से नॉनवेज देरी से पचता है और पेट में गैस, गर्मी, अपच और अन्य परेशानियां पैदा करता है.


बारिश में नॉनवेज खाना क्यों है खतरनाक
1- फंगस का खतरा-
मानसून में नमी बढ़ जाती है, जिसकी वजह से फंगल इंफेक्शन(fungal infection), फफूंदी और फंगस का खतरा बढ़ जाता है. खाने पीने की चीजें जल्दी खराब होने लगती हैं. खासतौर से नॉनवेज (non veg) में इंफेक्शन का खतरा रहता है.

2- कमजोर डाइजेशन-
बारिश में पाचन अग्नि (digestive fire) का असर कम हो जाता है. ऐसे में नॉन वेज फूड्स को पचाने में मुश्किल आती है. देरी से पचने की वजह से खाना आंतों में सड़ने लगता है. इससे फूड प्वाइजनिंग (food poisoning) का खतरा बढ़ता है.

3- पशु बीमार होते हैं-
बारिश में कीड़े-मकोड़ों बढ़ जाते हैं और जानवर भी बीमार होने लगते हैं. इस सीजन में पशुओं में कई तरह की बीमारियां फैलती हैं, जिसकी वजह से नॉनवेज खाना आपको भी नुकसान पहुंचा सकता है.

4- मछली प्रदूषित हो जाती है-
बारिश में पानी के साथ गंदगी बहकर तालाब और फिर नदियों में चली जाती है. ऐसे में मछली दूषित पानी और खाने का सेवन करती हैं. इस मौसम में मछली खाने से भी बचना चाहिए. इससे आप बीमार हो सकते हैं.

नोट- उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सामान्‍य जानकारी के लिए हैं हम इसकी जांच या सत्‍यता की पुष्टि नहीं करते हैं. इन्‍हें अपनानें से पहले संबंधित विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें.

Share:

Next Post

पैरों में दिखे ये लक्षण तो भूलकर भी न करें इग्‍नोर, हाई कोलेस्ट्रॉल का हो सकता है संकेत

Wed Jul 6 , 2022
नई दिल्‍ली। शरीर में जब फैट के रूप में कोलेस्ट्रॉल जमा होने लगता है तो इसे हाई कोलेस्ट्रॉल (High Cholesterol) कहा जाता है. हेल्दी कोशिकाओं (Healthy Cells) के निर्माण में कोलेस्ट्रॉल की जरूरत पड़ती है, हालांकि कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ने पर हार्ट की बीमारियों का खतरा भी तेजी से बढ़ता है. फैटी खाना, कम नींद, […]

Leave a Reply

Your email address will not be published.