खेल

टीम इंडिया के लिए अच्छी खबर, रिषभ पंत पूरी तरह से फिट, टीम इंडिया से जुड़ेंगे

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच शुरू होने वाली टेस्ट सीरीज (test series) से पहले टीम इंडिया (Team India) के लिए अच्छी खबर आ रही है. पता चला है कि भारतीय टीम के विकेट कीपर बल्लेबाज रिषभ पंत (Rishabh Pant) कोरोना (Corona) से ठीक हो गए हैं. वे जल्द ही भारतीय टीम से जुड़े जाएंगे. उनका क्वारंटीन (quarantine) का वक्त भी पूरा हो गया है. भारतीय टीम इस वक्त काउंटी टीम के साथ प्रैक्टिस मैच खेल रही है. भारत बनाम इंग्लैंड सीरीज (England Series) का पहला मैच चार अगस्त से खेला जाएगा. बीसीसीआई (BCCI) के ट्विटर से रिषभ पंत का एक फोटो शेयर किया गया है, जिसमें रिषभ पंत बिल्कुल ठीक दिखाई दे रहे हैं.

बता दें कि रिषभ पंत का क्वारंटीन 18 जुलाई को ही पूरा हो गया था, लेकिन एहतियात के तौर पर उन्हें कुछ और क्वारंटीन में रखा गया था. पता चला है कि टीम के बाकी सदस्य यानी अभिमन्यु ईश्वरन, विकेटकीपर रिद्धिमान साहा और गेंदबाजी कोच भरत अरुण भी अपना क्वारंटीन पूरा करने के बाद 24 जुलाई को टीम के साथ जुड़ जाएंगे. इन सभी का कोरोना टेस्ट निगेटिव आया है. बीसीसीआई ने गुरुवार को ही बताया था कि रिषभ पंत और ट्रेनिंग सहायक एवं नेट गेंदबाज दयानंद गरानी इंग्लैंड में कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. 

बीसीसीआई ने बयान जारी कर कहा था कि रिषभ पंत जो ब्रेक के दौरान टीम होटल में नहीं रह रहे थे, वह आठ जुलाई को पॉजिटिव पाए गए. वह लक्षणरहित हैं और फिलहाल आईसोलेशन में है. बीसीसीआई की मेडिकल टीम उनकी निगराई कर रही है. रिषभ पंत दो आरटी पीसीआर टेस्ट नेगेटिव आने के बाद टीम के साथ जुड़ेंगे. बोर्ड ने अन्य तीन सदस्यों को आइसोलेशन में रखा है जो गरानी के संपर्क में आए थे. बयान में कहा गया था कि बीसीसीआई की मेडिकल टीम ने गेंदबाजी कोच बी. अरुण, विकेटकीपर रिद्धिदमान साहा और अभिमन्यु ईश्वरन की पहचान की है जो गरानी के संपर्क में आए थे. गरानी 14 जुलाई को पॉजिटिव पाए गए थे. चारों को 10 दिनों तक आईसोलेशन में रखा गया है. भारतीय टीम को इंग्लैंड टीम के साथ चार अगस्त से पांच मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है. 

Next Post

ऑक्सीजन की कमी से मौतें: विशेषज्ञों ने कहा, ऑक्सीजन की कमी को नहीं किया जा सकता साबित

Thu Jul 22 , 2021
नई दिल्ली। ऑक्सीजन (Oxygen) या स्वास्थ्य सेवाओं की कमी से किसी की मौत नहीं होने के सरकार के बयान के बाद लोग अलग-अलग तर्क दे रहे हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों को ऐसे बयान पर कोई हैरानी नहीं हुई है, क्योंकि उन्हें ऐसे ही जवाब की उम्मीद थी। दरअसल केंद्र और राज्य सरकारों के पास ऐसा सिस्टम […]