विदेश

बलूचिस्तान में कोहराम, आतंकवादी मार रहे पाकिस्‍तानी सैनिकों को


कराची । बलूचिस्तान (Balochistan) में आतंकियों (terrorists) ने हमला किया जिसमें कम से कम पांच पाकिस्तानी सैनिकों (Pakistani soldiers) की मौत हो गई और दो घायल हैं। प्राप्त खबर के अनुसार, संदिग्ध आतंकियों ने बलूचिस्तान प्रांत के दो अलग-अलग इलाके में रिमोट से संचालित बम विस्फोट कर हमला बोला। इस हमले में फ्रंटियर कार्प्स (FC) को निशाना बनाया गया था। क्वेटा (Quetta) और कोहलू (Kohlu) जिले के सुदूर इलाकों में यह हमला हुआ था।

पहला हमला क्वेटा के बाहरी एरिया में हुआ था जहां मोटरसाइकिल में बम लगाया गया था इसमें एक जवान की मौत हो गई वहीं दो अन्य जख्मी हो गए। फ्रंटियर कार्प्स के वाहन के पास ही एक विस्फोट हुआ जो उस वक्त वहां पेट्रोलिंग कर रहे थे। दूसरे हमला कोहलू जिले के सुदूर कहन एरिया में हुआ। आतंकियों ने FC चेकपोस्ट पर देर रात हमला किया जिसमें चार जवान मारे गए।



अधिकारियों ने बताया कि दूसरा हमला कोहलु जिले के कहान इलाके में हुआ जहां संदिग्ध आतंकवादियों ने फ्रंटियर कोर की जांच चौकी को बृहस्पतिवार देर रात निशाना बनाया और इसमें चार सैनिक मारे गए। उन्होंने बताया, ‘हथियारबंद हमलावरों ने जांच चौकी पर अंधाधुंध फायरिंग की जिसका सैनिकों ने भी जवाब दिया।’

उल्लेखनीय है कि बहुचर्चित चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) के केंद्र बलूचिस्तान में आतंकवादी और अलगावादी गतिविधियों में इजाफा हुआ है और हाल के दिनों में यहां सुरक्षा बलों पर हमले बढ़े हैं। 15 फरवरी को भी कच्छ के दूरदराज के इलाके में मौजूद फ्रंटियर कोर की जांच चौकी को निशाना बनाया गया था जिसमें एक सैनिक की मौत हुई थी जबकि अन्य एक घायल हुआ था।

Share:

Next Post

कोरोना टीके की खुराक यदि छह की जगह तीन माह में मिले तो होगी अधिक प्रभावी-शोध

Sun Feb 21 , 2021
वाशिंगटन। कोरोना वायरस (Covd-19) के खिलाफ ऑक्सफोर्ड वैक्सीन (Oxford vaccine) की दो खुराक के बीच के अंतराल को लेकर एक अध्ययन किया गया है। इसका दावा है कि छह हफ्ते के मुकाबले दो डोज में तीन माह का अंतर रखने से यह वैक्सीन ज्यादा प्रभावी हो सकती है। वैक्सीन की पहली खुराक 76 फीसद तक […]