उत्तर प्रदेश देश राजनीति

मायावती ने कहा, विधानसभा और लोकसभा में BSP अकेले लड़ें चुनाव

लखनऊ (Lucknow)। उत्‍तरप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (BSP) सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने रविवार को लखनऊ में मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी पार्टी बीएसपी (BSP) अपने दम पर अकेले ही लोकसभा चुनाव और 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव लड़ेगी। अपने जन्मदिन के मौके पर मायावती ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि पार्टी में नेता खासकर सांसद चाहते हैं कि पार्टी नीतीश कुमार की मुहिम में शामिल होकर उस मोर्चे के तहत 2024 का लोकसभा चुनाव लड़े।

दरअसल, इस साल के अंत तक आठ राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं और अगले साल लोकसभा के चुनाव होने हैं। इधर, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सभी विपक्षी दलों को 2024 के चुनाव के लिए एकजुट करने की कोशिश कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश से लोकसभा की 80 सीटें आती हैं। 2019 में पार्टी ने सपा संग चुनाव लड़ा था।

उत्तर प्रदेश के अमरोहा संसदीय सीट से बसपा सांसद कुंवर दानिश अली ने मंगलवार को 2018 में जेडीएस-कांग्रेस के शपथ ग्रहण समारोह की एक तस्वीर ट्वीट की है, जिसमें कांग्रेस नेता सोनिया गांधी और राहुल गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, मायावती, आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू, कर्नाटक के पूर्व सीएम एचडी कुमारस्वामी और अली खुद फ्रेम में हैं।



दानिश अली ने मायावती के रुख से अलग हटकर ट्वीट किया है, “कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस सरकार के शपथ ग्रहण समारोह के अवसर पर 2018 में इसी दिन विधान सौध बेंगलुरु में विपक्षी दलों के दिग्गजों की मेजबानी करना मेरे लिए एक यादगार क्षण था। विपक्षी एकता की आवश्यकता आज पहले से कहीं ज्यादा है। आइए हम सब एकजुट हों।

दानिश अली ने भले ही खुलकर अपनी बात कही हो लेकिन बसपा के कुछ सांसद पर्दे के पीछे रहकर ही विपक्षी एकता की बात कर रहे हैं। एक सांसद ने कहा कि विधानसभा और शहरी स्थानीय निकाय चुनावों में पार्टी का प्रदर्शन भले ही निराशाजनक रहा हो लेकिन यूपी में बसपा के 13% वोट शेयर के बिना विपक्षी एकता का कोई मतलब नहीं बनता है।

बता दें कि 2019 में अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी, मायावती की बसपा और जयंत चौधरी की रालोद ने मिलकर चुनाव लड़ा था। बसपा को इसका फायदा भी हुआ था। बसपा के खाते में जहां 10 सीटें आई थीं तो सपा को सिर्फ पांच सीटों पर जीत हासिल हो सकी थी।

कांग्रेस को महज एक सीट पर संतोष करना पड़ा था। राहुल गांधी अपनी पारंपरिक सीट अमेठी से हार गए थे। कांग्रेस सिर्फ रायबरेली सीट पर ही जीत दर्ज कर सकी थी। उस चुनाव में बसपा ने 38, सपा ने 37 और रालोद ने 3 सीटों पर प्रत्याशी उतारे थे। अमेठी और रायबरेली सीट पर गठबंधन ने उम्मीदवार नहीं उतारा था।

Share:

Next Post

प्रदर्शन कर रहे पहलवानों के समर्थन में उतरे कमल हासन, कहा- मैं हमारे चैंपियंस के साथ खड़ा हूं

Wed May 24 , 2023
डेस्क। भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ दिल्ली के जंतर-मंतर पर स्टार पहलवानों का धरना लगातार जारी है। वह बृजभूषण के खिलाफ छेड़छाड़ और उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए और अपनी मांगों को लेकर लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इस मुद्दे पर पहलवानों का समर्थन करने के लिए फिल्म इंडस्ट्री […]