देश मध्‍यप्रदेश

MP: 25 हजार से अधिक भक्तों ने सामूहिक रूप से किया राम रक्षा स्तोत्र का पाठ, बनाया रिकॉर्ड

धार। धार शहर के लोगों ने रविवार को विश्व कीर्तिमान रच दिया। वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड लंदन में धार शहर का नाम लिखवा दिया। धार में आज रामोत्सव के अंतर्गत सकलहिंदू समाज के लगभग 25 हजार से अधिक लोगों ने सामूहिक रूप से श्री राम रक्षा स्तोत्र का पाठ किया। बता दें कि कार्यक्रम को लेकर उदाजी राव चौराहा पर भव्य साज सज्जा के साथ एक विशाल मंच बनाया गया था। इस आयोजन में शहर की हर कॉलोनी, हर बस्ती का प्रतिनिधित्व था। शहर के कारोबारी शाम 4:00 बजे के बाद से ही अपने प्रतिष्ठान बंद कर कार्यक्रम स्थल राजा भोज की धार नगरी के उदाजी राव चौपाटी पर पहुंचने लगे थे। हजारों लोगों ने श्री राम रक्षा स्तोत्र का स-स्वर पाठ किया और वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज करवाया। यह कीर्तिमान राजा भोज की नगरी धार के राम भक्त हमेशा याद रखेंगे।


राम मंदिर में श्री राम लला की प्राण प्रतिष्ठा का उत्सव धार में कई दिनों से अनवरत चल रहा है। मंदिरों में धार्मिक अनुष्ठान भी किया जा रहे हैं। कार्यक्रम में भगवान श्री राम की संघर्ष गाथा सुन श्रद्धालुओं के रोम रोम में राम भक्ति की शक्ति नजर आ रही थी। इसे स्लाइड शो के माध्यम से दर्शाया गया। कार्यक्रम की शुरुआत श्री राम की प्रभुता के गायन से हुई। उसके बाद 13 बार विजय मंत्र का गायन किया गया। साथ ही हनुमान चालीसा का पाठ भी किया गया। सबसे अंत में भगवान श्री राम का श्री राम रक्षा स्तोत्र का पाठ 25000 से अधिक श्रद्धालुओं ने एक साथ बैठ कर करने से वर्ल्ड बुक ऑफ लंदन का अवार्ड प्राप्त किया। कार्यक्रम के दौरान कारसेवकों का स्वागत और सम्मान भी किया गया। कार्यक्रम के अंत में लंदन से आए पदाधिकारी ने अवार्ड का सर्टिफिकेट प्रदान किया। कार्यक्रम के अंत में रंग-बिरंगे आतिशबाजी ने श्रद्धालुओं का मन मोह लिया।

Share:

Next Post

RSS प्रमुख भागवत बोले- भारतवर्ष के पुनर्निर्माण अभियान की शुरुआत, मंदिर विवाद की कड़वाहट खत्म करने की अपील

Mon Jan 22 , 2024
नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने कहा कि अयोध्या (Ayodhya) में रामलला के जन्मस्थान पर राममंदिर (Ram Mandir) का निर्माण और 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा समारोह भारतवर्ष के पुनर्निर्माण अभियान की शुरुआत है। यह सद्भाव, एकता, प्रगति, शांति और सभी के कल्याण के लिए है। राम मंदिर निर्माण […]