बड़ी खबर

हिमाचल में मिला Bird Flu का नया वायरस, इंसानों-जानवरों दोनों के लिए घातक हो सकता है


धर्मशाला । हिमाचल (Himachal) प्रदेश के जिला कांगड़ा में नए बर्ड फ्लू वायरस (New bird flu virus) से हड़कंप मच गया है। पौंग झील में मरे विदेशी परिंदों में नए वायरस फ्लू एबियन इन्फ्लूएंजा वायरस (H5N1) के लक्षण पाए गए हैं, जोकि पहले के बर्ड फ्लू में में पाए जाने वाले एच1एन1 की अपेक्षा काफी घातक बताए जा रहे हैं। इस नए वायरस का असर जहां पक्षियों पर होता है, वहीं दूसरे जानवरों के साथ-साथ यह वायरस इंसानों के लिए भी घातक है। इससे इंसानों की मौत तक हो सकती है। जानकारी के अनुसार जिला कांगड़ा में पिछले करीब एक सप्ताह से विदेशी पक्षियों के मरने का सिलसिला जारी था।

इसके बाद स्वास्थ्य विभाग और वन्य प्राणी विभाग की टीमों ने सैंपल एकत्रित कर जांच के लिए भेजे थे, जिनकी रिपोर्ट आ गई है। इस रिपोर्ट में जिले में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। वहीं रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि पौंग क्षेत्र में फैला वायरस नई किस्म का है। इस वायरस की पहचान फ्लू एबियन इन्फ्लूएंजा वायरस (एच5एन1) के रूप में हुई है। विशेषज्ञों की मानें तो यह वायरस पक्षियों के साथ-साथ अन्य जानवरों को भी अपने चपेट में ले सकता है। इसके अलावा मनुष्य प्रजाति के लिए भी घातक है। इससे पहले पौंग क्षेत्र में बर्ड फ्लू में एच1एन1 वायरस पाया गया था, जोकि केवल मात्र पक्षियों की प्रजातियों के लिए ही खतरनाक था।

पौंग क्षेत्र में पाया गया बर्ड फ्लू का वायरस एच5एन1 प्रजाति का है। यह वायरस पहले पाए जाने वाले वायरस से काफी खतरनाक है। वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेश सरकार से इसकी टेस्टिंग सुविधा मुहैया करवाने की मांग की है। इस वायरस के इलाज से संबंधित आवश्यक दवाइयां स्वास्थ्य विभाग के पास पर्याप्त मात्रा में हैं। – डा. जीडी गुप्ता, सीएमओ, कांगड़ा।

आंख-नाक और मुंह के जरिये प्रवेश करता है वायरस
कोरोना वायरस की चुनौतियों के बीच हिमाचल प्रदेश में एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस (एच5एन1) नाम के नए वायरस ने चिंताएं बढ़ानी शुरू कर दी हैं। यह वायरस संक्रमित पक्षियों और इंसानों दोनों के लिए बहुत खतरनाक है। ऐसे में विशेषज्ञों ने इससे बचाव के लिए सतर्क रहने और सामान्य लक्षण नजर आने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर संपर्क करने की हिदायत दी है।

मनुष्य में इस तरह फैलता है फ्लू
विशेषज्ञों की मानें तो सामान्य तौर पर वायरस इंसान में संक्रमित पक्षी या मुर्गे के बेहद निकट रहने से फैलता है। मुर्गे से किसी तरह भी संपर्क होने से वायरस मनुष्य को अपनी चपेट में ले सकता है। इंसानों में बर्ड फ्लू का वायरस आंख, नाक और मुंह के जरिये प्रवेश करता है।

इस तरह करें बचाव
विशेषज्ञों ने संक्रमित पक्षियों से दूर रहने की सलाह दी है। मरे हुए पक्षियों से बिलकुल दूरी बनाने को कहा है। लोगों को नॉनवेज खाने से भी परहेज करने को कहा है। संक्रमण वाले क्षेत्र में जाने से बचाव करने को भी विशेषज्ञों ने प्राथमिकता दी है। सामान्य लक्षण नजर आने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में स्वास्थ्य जांच करवाने को कहा है।

क्या हैं वायरस के लक्षण
– नाक बहना।
– सांस लेने में दिक्कत।
– हर वक्त उल्टी होने का एहसास
– हमेशा कफ रहना।
– गले में सूजन।
– मांसपेशियों में दर्द।
– दस्त होना
– सिर और पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना।

Share:

Next Post

FARMER PROTEST: 'मेरी आत्मा में अब भी भाजपा, लेकिन मुझ गरीब का काम नहीं किया' लिखा और किसान ने लगा ली फांसी

Tue Jan 5 , 2021
अहमदाबाद । देश में कृषि कानूनों को लेकर किसानों का आंदोलन (Farmers’ movement) लगातार जारी है। इस बीच गुजरात के महिसागर जिले (Mahisagar district of Gujarat)  में हैरान करने वाली एक घटना हुई। दरअसल, यहां एक किसान ने पंचायत घर में फांसी लगाकर जान दे दी। बताया जा रहा है कि वह किसान सरकारी मदद […]