बड़ी खबर

‘बदमाश अब ढूंढने से भी नहीं मिलेंगे…’ राजस्‍थान में CM पद के दावेदार बाबा बालकनाथ का दावा

डेस्क: राजस्थान विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को राजभवन पहुंचकर राज्यपाल कलराज मिश्र को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. अब राजस्‍थान में जीत के बाद भारतीय जनता पार्टी की नई सरकार का गठन होगा और सरकार कौन चलाएगा यानी मुख्‍यमंत्री का चेहरा कौन होगा इसको लेकर अटकलों का बाजार गर्म है. इस तिजारा व‍िधानसभा सीट से जीत हास‍िल करने वाले बाबा बालकनाथ का नाम भी चल रहा है.

कन्हैया लाल की हत्‍या के सवाल पर बाबा बालकनाथ ने कहा क‍ि इस मामले में हम बिल्कुल न्याय तक पहुंचेंगे. उन्‍होंने कहा क‍ि प‍िछली कांग्रेस सरकार के दौरान राज्‍य में महिलाओं के साथ अत्याचार हुआ है. उन्‍होंने कहा क‍ि गैंग्स्टर बदमाश अब देखिएगा ढूंढते भी नहीं मिलेंगे और जनता के साथ न्याय होगा.क्‍या आप मुख्‍यमंत्री बनेंगे तो इस सवाल पर बाबा बालकनाथ ने कहा क‍ि ये मेरा विषय नहीं है. मेरा काम चुनाव जीतकर देना था और अब आगे सेवा करेंगे.


नॉर्थ और साउथ राजनीति पर बाबा बालकनाथ ने कहा क‍ि तेलंगाना में वोट प्रतिशत बढ़ा है. आगे परिणाम और अच्छे आएंगे. बीजेपी लोगों तक पहुंच रही है. वहां भी पीएम मोदी की बहुत लोकप्रियता है और पीएम की हर तरफ लोकप्रियता देश-विदेश सब जगह है. उन्‍होंने कहा क‍ि यह जीत कार्यकर्ताओं ने बहुत मेहनत का नतीजा और तिजारा व‍िधानसभा की जनता ने मेरा साथ दिया है. जब उनसे पूछा गया क‍ि जीत के पीछे का क्या बड़ा कारण रहा तो उन्‍होंने कहा क‍ि गहलोत की कोई योजना नहीं थी. वो सिर्फ झूठ का पिटारा था, धरातल पर कुछ नहीं था. उन्‍होंने कहा क‍ि किसानों के साथ शुरुआती 10 दिन में धोखा कर क‍िया गया. आगे कहा क‍ि कांग्रेस वाले कागज चोर हैं ये लोग चूहों की तरह हैं. इन्‍होंने छात्रों के पेपर का कागज खा ल‍िया.

बाबा बालकनाथ ने कहा क‍ि तिजारा सीट पर पोलराइजेशन हुई तो मैंने कहा क‍ि कितनी भी कोशिश कर लें. कब्र से निकालकर लोगों को लगा लें, तिजारा से बीजेपी ही जीतेगी सनातन ही जीतेगा. उन्‍होंने कहा क‍ि हम सेवा करना जानते हैं. पीएम के नेतृत्व में पूरा देश है और सभी नेता कार्यकर्ता उनके पद चिन्हों पर चल रहे हैं.

Share:

Next Post

हरल्ली कांग्रेस के पास अब इंदौर में उम्मीदवारों का टोटा... कौन लड़ेगा लोकसभा

Mon Dec 4 , 2023
भाजपा ने भी दिया कांग्रेसमुक्त इंदौर का नारा, पुरानों के साथ पहली बार उतरे नए चेहरे भी नहीं कर सके कमाल, अधिकांश की बुरी तरह हार इंदौर (Indore)। बीते अनेक वर्षों से इंदौर में कांग्रेस सभी प्रमुख चुनाव लगातार हारती रही है। लोकसभा का चुनाव तो पिछले 35 सालों से कांग्रेस ने नहीं जीता तो […]