बड़ी खबर

मोदी ने बाइडेन से की फोन पर बात, भारत आने का दिया न्योता

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन से टेलीफोन पर पहली बार बात की औऱ उन्हें भारत आने के लिए आंमत्रित किया। इस बातचीत में प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपति बाइडन को चुनाव में जीत के लिए बधाई दी और भारत-अमेरिका रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाने के लिए साथ मिलकर काम करने के लिए तत्पर रहने को कहा। दोनों नेताओं ने लंबाई क्षेत्रीय विकास और व्यापक भू-राजनीतिक संदर्भ पर चर्चा की।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि आज मैंने अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन से टेलीफोन पर बात की और उन्हें चुनावों में मिली सफलता के लिए शुभकामनाएं दीं। मोदी ने कहा कि भारत-अमेरिकी साझेदारी लोकतांत्रिक मूल्यों और साझा रणनीतिक हितों के लिए प्रतिबद्धता से जुड़ी हुई है। उन्होंने नियम-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था और मुक्त, खुला और समावेशी भारत-प्रशांत क्षेत्र सुनिश्चित करने के लिए समान विचारधारा वाले देशों के साथ काम करने के महत्व को दोहराया।

प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति बाइडन ने वैश्विक जलवायु परिवर्तन की चुनौती पर अपने सहयोग को और आगे बढ़ाने पर सहमति जताई है। प्रधानमंत्री ने पेरिस समझौते के लिए पुन: प्रतिबद्ध होने के राष्ट्रपति बाइडन के निर्णय का स्वागत किया। साथ ही भारत ने अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में अपने लिए निर्धारित महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को उजागर किया। प्रधानमंत्री ने इस वर्ष अप्रैल में जलवायु नेतृत्व शिखर सम्मेलन आयोजित करने के लिए राष्ट्रपति बाइडन की पहल का स्वागत किया और उसी में भाग लेने के लिए उत्सुक दिखे।

यह बातचीत ऐसे समय में हुई जब भारत और अमेरिका की सेनाएं राजस्थान में युद्धाभ्यास कर रही हैं। ऐसे में जब बाइडन प्रशासन स्‍पष्‍ट तौर पर कह चुका है कि चीन को लेकर ट्रंप के कार्यकाल की नीतियों में बदलाव नहीं आएगा। माना जा रहा है कि बाइडन के कार्यकाल में अमेरिक औऱ भारत के संबंध और मजबूत होंगे।

Next Post

वैज्ञानिकों का दल पहुंचा जोशीमठ, चमोली हादसा Glacier टूटने से नहीं

Tue Feb 9 , 2021
देहरादून । चमोली आपदा पर वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी के निदेशक कालाचंद साईं ने सोमवार को कहा है कि अभी तक जानकारी के मुताबिक उस क्षेत्र में ग्लेशियर लेक नहीं है। आपदा के कारणों के अध्ययन के लिए इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिक जोशीमठ पहुंच गए हैं। साईं ने कहा कि हर ग्लेशियर (Glacier) नहीं टूटता। […]