बड़ी खबर व्‍यापार

सीतारमण के साथ बजट पूर्व चर्चाओं में आयकर स्लैब को तर्कसंगत बनाने का सुझाव

– वित्त मंत्री ने 15 से 22 दिसंबर के बीच बजट 2022-23 को लेकर किया विचार-विमर्श

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) को उद्योग जगत ने अगले बजट (next budget) में आयकर स्लैब (income tax slab) को तर्कसंगत बनाने, डिजिटल सेवाओं को ढांचागत दर्जा देने और हाइड्रोजन भंडारण को प्रोत्साहन देने वाले कदम उठाने के सुझाव दिए। वित्त मंत्रालय ने बुधवार को यह जानकारी दी।


वित्त मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक यह सभी सुझाव वित्त मंत्री के साथ बजट-पूर्व हुई चर्चाओं के दौरान सामने आए हैं। सीतारमण ने 15 से 22 दिसंबर के बीच आम बजट 2022-23 के बारे में विभिन्न क्षेत्रों के प्रतिनिधियों के साथ कई मसलों पर चर्चा की। इस दौरान वित्त मंत्री ने 8 बजट परामर्श बैठकों में हिस्सा लिया, जिनमें संबंधित पक्षों के अलावा 7 समूहों के 120 से ज्यादा प्रतिनिधि शामिल रहे।

मंत्रालय के अनुसार बजट पूर्व चर्चाओं में कृषि एवं कृषि प्रसंस्करण उद्योग, उद्योग, ढांचागत क्षेत्र, वित्तीय एवं पूंजी बाजार, सेवा एवं व्यापार, सामाजिक क्षेत्र, कारोबारी संगठन एवं श्रमिक संगठन और अर्थशास्त्री शामिल हुए। इस दौरान विभिन्न समूहों ने वित्त मंत्री को कई सुझाव दिए, जिसमें शोध एवं विकास पर खर्च बढ़ाना, डिजिटल सेवाओं को ढांचागत क्षेत्र का दर्जा देना, हाइड्रोजन भंडारण एवं ईंधन सेल विकास को प्रोत्साहन, आयकर दरों को तर्कसंगत बनाने और ऑनलाइन सुरक्षा उपायों में निवेश जैसे अहम सुझाव शामिल हैं।

उल्लेखनीय है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी, 2022 को वित्त वर्ष 2022-23 का आम बजट संसद में पेश करेंगी। सीतारमण का यह चौथा बजट होगा। कोविड-19 महामारी को लेकर फिर से चिंता बढ़ने के बीच आर्थिक जगत को इस बजट का बेसब्री से इंतजार है। दरअसल सरकार के सामने इस चुनौती के बीच आर्थिक तेजी को बनाए रखने की भी चुनौती होगी। (एजेंसी, हि.स.)

Share:

Next Post

इंदौरः कान्ह नदी को प्रदूषित करने पर एक फैक्ट्री सील, चार में बंद कराया उत्पादन, काटे विद्युत कनेक्शन

Thu Dec 23 , 2021
इंदौर। इंदौर में कान्ह नदी के पानी को प्रदूषित करने वालों के विरूद्ध कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देश पर बुधवार को जिला प्रशासन और नगर निगम के अमले द्वारा बड़ी कार्रवाई की गई। कार्रवाई के दौरान कान्ह नदी को प्रदूषित करने पर एक फैक्ट्री सील की गई तथा 4 फैक्ट्री में प्रोडक्शन बंद करने की […]