बड़ी खबर मध्‍यप्रदेश

सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश सरकार पर लगाया 10 लाख का जुर्माना, जानें पूरा मामला

इंदौर: हाईकोर्ट (High Court) के आदेश की अवहेलना करने और अनुबंध के आधार पर चयनित ‘संविदा शिक्षक’ (‘Contract Teacher’) को वैध नियुक्ति से इनकार करने के लिए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) सरकार पर दस लाख रुपये (10-lakhs) का जुर्माना लगाया है. कोर्ट ने मध्य प्रदेश सरकार को शिक्षक को राहत देने से इनकार करने के लिए जानबूझकर, अवैध, दुर्भावनापूर्ण कार्रवाई करने के लिए जिम्मेदार दोषी अधिकारियों से इस राशि को वसूलने का निर्देश दिया है.

सुनवाई के दौरान जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस संदीप मेहता की खंडपीठ ने कहा कि यह मनाने के बाद भी कि अपीलकर्ता की नियुक्ति गलत तरीके से रोक दी गई थी उसके बाद कोई राहत नहीं दी गई. ये उसके अपने आदेश का उल्लंघन है.


इस मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने राज्य सरकार की कार्रवाई को हाईकोर्ट द्वारा पारित आदेशों को किसी भी तरह से दरकिनार करने की कोशिश बताया है. जिसे अपीलकर्ता तथा उसके साथियों को नियुक्ति से वंचित किया जा सके. सुनवाई के दौरान कोर्ट ने माना हैं कि अपीलकर्ता राज्य सरकार तथा उसके अधिकारियों की मनमानी तथा अत्याचारपूर्ण कार्रवाई के कारण परेशानी का सामना करना पड़ा है. ऐसे में वो मुआवजे की हकदार है.

कोर्ट ने राज्य सरकार को निर्देश हुए कहा हैं कि अपीलार्थी को तत्काल संविदा शाला शिक्षक ग्रेड-III या समकक्ष पद पर 60 दिन के अंदर नियुक्ति दी जाए. अपीलकर्ता को राज्य सरकार 10 लाख का जुर्माना देगी. ये भी सरकार को 60 दिन में देना होगा और ये राशि सरकार उन अधिकारियों से लेगी जो इसमें दोषी पाएं गए हैं.

Share:

Next Post

जगनमोहन रेड्डी के घर पर चला बुलडोजर, अवैध निर्माण की शिकायत के बाद नगर निगम का एक्शन

Sat Jun 15 , 2024
हैदराबाद: आंध्र प्रदेश में नई सरकार के शपथ लेने के बाद ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और वाईएसआरसीपी के अध्यक्ष जगनमोहन रेड्डी के अवैध निर्माण पर बुलडोजर चलाकर जमींदोज कर दिया. लोटस पॉन्ड में जगन मोहन रेड्डी के आवास के सामने यह उनकी सुरक्षा के लिए सड़क का अतिक्रमण कर बनाया […]