विदेश

तालिबान ने हिंदुओं से की अपील, कहा- लौट आइए, सुरक्षा की फुल गारंटी देंगे


काबुल: अफगानिस्तान (Afghanistan Crisis) में तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद से वहां के लोगों के हालात बदतर हो गए हैं. खासकर हजारों की संख्या में हिंदू और सिख समुदाय के लोग देश छोड़कर जा चुके हैं. इस बीच तालिबान ने दावा किया है कि अफगानिस्तान में सुरक्षा की स्थिति हल हो गई है. उसने अल्पसंख्यकों हिंदुओं और सिखों से देश वापस लौटने का आग्रह किया है.

तालिबान राज्यमंत्री के कार्यालय के महानिदेशक डॉक्टर मुल्ला अब्दुल वसी द्वारा 24 जुलाई को अफगानिस्तान के हिंदू और सिख परिषद के कई सदस्यों के साथ मुलाकात के बाद यह बयान आया है. अफगानिस्तान के चीफ ऑफ स्टाफ के कार्यालय ने ट्वीट कर यह जानकारी दी.

वसी ने काबुल में हिंदू और सिख नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की. उन्होंने कहा कि सभी भारतीय और सिख, जो सुरक्षा समस्याओं के कारण देश छोड़ दिए थे, अब अफगानिस्तान लौट सकते हैं क्योंकि देश में सुरक्षा स्थापित हो गई है. तालिबान की विज्ञप्ति के अनुसार, सिख नेताओं ने काबुल में गुरुद्वारे पर इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत (ISKP) के हमले को रोकने के लिए तालिबान को धन्यवाद दिया.

18 जून को काबुल में गुरुद्वारा पर हुआ हमला
18 जून को इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत (ISKP) ने काबुल में करता परवान गुरुद्वारे पर हमला किया था. इस जानलेवा हमले में एक सिख समेत दो लोगों की मौत हो गई थी. सूत्रों के अनुसार, जब हमलावरों ने परिसर में प्रवेश किया, तो सुबह की प्रार्थना के लिए गुरुद्वारा परिसर के अंदर लगभग 25 से 30 लोग मौजूद थे. लगभग 10-15 लोग भागने में सफल रहे, लेकिन गुरुद्वारे के गार्ड अहमद को हमलावरों ने मार डाला.

अफगानिस्तान में हिंसा का निशाना रहे हैं धार्मिक अल्पसंख्यक
अफगानिस्तान में सिख समुदाय सहित धार्मिक अल्पसंख्यक हिंसा का निशाना रहे हैं. पिछले साल अक्टूबर में काबुल के कार्त-ए-परवान जिले के एक गुरुद्वारे में 15 से 20 आतंकियों ने घुसकर गार्डों को बांध दिया था. मार्च 2020 में, काबुल के शार्ट बाजार इलाके में श्री गुरु हर राय साहिब गुरुद्वारा में एक घातक हमला हुआ, जिसमें 27 सिख मारे गए और कई घायल हो गए. इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने हमले की जिम्मेदारी ली. इस बीच, तालिबान के नेतृत्व वाली अफगानिस्तान सरकार ने काबुल में गुरुद्वारा करता परवान का जीर्णोद्धार करने का फैसला किया है, जिसे एक आतंकी हमले में नुकसान हुआ था.

गृह मंत्रालय के प्रतिनिधिमंडल ने किया गुरुद्वारे का दौरा
सूत्र बताते हैं कि गृह मंत्रालय (Ministry Of Interior) के एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने पीड़ितों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करने के लिए गुरुद्वारे के कई दौरे किए. राजधानी में अंतिम शेष बचे सिख गुरुद्वारे को हुए नुकसान के स्तर का आकलन करने के लिए एक तकनीकी टीम को भी भेजा. मिली जानकारी के मुताबिक, तालिबान सरकार इमारत के नवीनीकरण के लिए 7.5 मिलियन अफगानी राशि खर्च करेगी.

Share:

Next Post

नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स से बाहर हुए, भारत को बड़ा झटका, जानें वजह

Tue Jul 26 , 2022
नई दिल्ली: कॉमनवेल्थ गेम्स के शुरू होने से पहले ही भारत को बड़ा झटका लगा है. जेवलिन थ्रो में गोल्ड मेडल के मजबूत दावेदार नीरज चोपड़ा कॉमनवेल्थ गेम्स से बाहर हो गए हैं. वो फिट नहीं हैं. उन्हें हाल ही में विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के फाइनल के दौरान चोट लग गई थी. आईओए के सेक्रेटरी […]