बड़ी खबर

केंद्र सरकार के पास 27 लाख टन चना दाल का स्टॉक, राज्यों को देने को तैयार


नई दिल्ली: केंद्र के पास वर्तमान समय में दालों का लगभग 13 लाख टन अतिरिक्त स्टॉक है और कुल स्टॉक का एक बड़ा हिस्सा चना दाल (चना) है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अगर राज्य सरकार दालों की आपूर्ति को लेकर कोई अनुरोध भेजती है तो रिजर्व से अधिक के साथ, केंद्र राज्यों को चना दाल की आपूर्ति करने के लिए तैयार है.

TOI की रिपोर्ट के मुताबिक सरकार अतिरिक्त स्टॉक को खत्म करने के विकल्पों पर विचार कर रही है. टीओआई को एक अधिकारी ने बताया कि सबसे पहले, हमें केंद्रीय पूल से दाल प्राप्त करने के लिए राज्यों से अनुरोध प्राप्त करने की आवश्यकता है. दालों की कीमतें नियंत्रण में हैं और गिर रही हैं, जो एक सकारात्मक संकेत है.


वहीं उद्योग विश्लेषकों ने यह भी कहा कि चना दाल की शेल्फ लाइफ लगभग 9-10 महीने है, इसलिए सरकार को पिछले साल खरीदी गई दालों को खत्म करना होगा. वर्तमान में, 23 लाख टन के बफर स्टॉक मानदंड के मुकाबले, सरकार के स्वामित्व वाली कृषि सहकारी, नैफेड के पास 36 लाख टन दालें हैं. अधिकारियों ने कहा कि इस कुल स्टॉक का लगभग 27 लाख टन केवल चना का है. जहां तक अन्य दालों का सवाल है तो स्टॉक कम है.

उदाहरण के लिए, मूंग दाल का कुल स्टॉक 1.1 लाख टन है, इसके बाद अरहर (अरहर) 90,000 टन और उड़द (20,000 टन) है. साल 2017-18 में, सरकार ने राज्यों को रियायती मूल्य पर दाल की पेशकश की थी, जो खरीद लागत से कम थी. इसका उद्देश्य सार्वजनिक वितरण प्रणाली, मध्याह्न भोजन और एकीकृत बाल विकास योजनाओं जैसे कल्याणकारी कार्यक्रम के तहत लोगों को दाल उपलब्ध कराना था.

Share:

Next Post

केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री के चारधाम तीर्थयात्रियों को मिलेगा मुफ्त बीमा

Thu Jun 16 , 2022
नई दिल्ली: भारतीय धर्मग्रंथों में धार्मिक यात्रा यानी तीर्थयात्रा की काफी अहमियत है. अधिकतर लोग अपने जीवन में कभी न कभी चार धाम की यात्रा जरूर करना चाहते हैं. वैसे, धार्मिक ग्रंथों में बद्रीनाथ, द्वारका, जगन्नाथ पुरी और रामेश्वरम की चर्चा चारधाम के रूप में की गई है. वहीं, उत्तराखंड में बद्रीनाथ के अलावा केदारनाथ, […]