जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

प्रोटीन की कमी को पूरा कर देंगी ये चीजें, डाइट में शामिल करने से रहेंगे हेल्‍दी व फिट

सेहतमंद रहने के लिए शरीर में सभी विटामिन और प्रोट्रीन का होना बेहद जरूरी है ।लेकिन आप अपनी डाइट से प्रोटीन की कमी को पूरा कर सकते हैं। हमारी डाइट में कुल कैलोरी का 15-35 प्रतिशत हिस्सा प्रोटीन का होना चाहिए। प्रोटीन मुख्य रुप से एमिनो एसिड से बना होता है। शरीर के लिए 9 एमिनो एसिड्स बहुत जरूरी हैं। ऐसे में प्रोटीन से शरीर को ये सभी जरूरी 9 एमिनो एसिड्स (amino acids) मिलते हैं। बच्चे, युवा और बुजुर्ग हर उम्र के लोगों को स्वस्थ रहने के लिए प्रोटीन की जरूरत पड़ती है। बच्चों की ग्रोथ और सही विकास के लिए भी प्रोटीन जरूरी है।

प्रोटीन से शरीर में नई कोशिकाओं (new cells) का निर्माण होता है और डैमेज कोशिकाएं रिपेयर करने में मदद मिलती है। हमारे बाल, स्किन, बोन्स, नाखून, मांसपेशियों, कोशिकाओं और दूसरे अंगों को स्वस्थ (Healthy) रखने के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी है। आप खाने में इन चीजों को शामिल कर प्रोटीन की कमी को पूरा कर सकते हैं। जानते हैं प्रोटीन से भरपूर प्राकृतिक खाद्य पदार्थ।

प्रोटीन से भरपूर प्राकृतिक खाद्य पदार्थ (Protein Natural Food Source)
दाल
सभी दालों में प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। दाल को प्रोटीन का हाई सोर्स कहा जाता है। अरहर की दाल में सबसे ज्यादा प्रोटीन होता है। इसके अलावा राजमा और छोले में भी प्रोटीन पाया जाता है। दाल को अपने डेली मील का हिस्सा जरूर बनाएं।

मूंगफली-
अक्सर लोग सर्दियों में मूंगफली खाना पसंद करते हैं, लेकिन आप प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए पूरे साल मूंगफली का उपयोग कर सकते हैं। मूंगफली में कैलोरी, विटामिन और प्रोटीन अच्छी मात्रा में होता है। मूंगफली शरीर को भरपूर पोषण देती है। 100 ग्राम मूंगफली से 20.2 ग्राम प्रोटीन मिलता है।

ड्राई फ्रूट्स-
मेवा आपके शरीर में कई विटामिन और पोषक तत्वों की कमी को पूरा करने में मदद करते हैं। प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए आप काजू-बादाम भी खा सकते हैं। वैसे तो सभी ड्राई फ्रूट्स में प्रोटीन होता है, लेकिन काजू में काफी ज्यादा प्रोटीन होता है। आप स्नैक्स के तौर पर भी काजू खा सकते हैं।


अंडे- अंडे को प्रोटीन (protein) का सबसे अच्छा सोर्स माना जाता है। आपको रोज अपने खाने में कम से कम एक अंडा जरूर शामिल करना चाहिए। अंडे में विटामिन डी(vitamin D), बी-12 और कई दूसरे जरुरी पोषक तत्व पाए जाते हैं। शरीर को मजबूत बनाने के लिए भी अंडा खाने की सलाह दी जाती है।

सोयाबीन-
अगर आप अंडा नहीं खाते तो शाकाहारी (Vegetarian) लोगों के लिए सोयाबीन भी प्रोटीन का अच्छा सोर्स है। आप सोयाबीन से अपनी डेली प्रोटीन नीड्स को पूरा कर सकते हैं। करीब 100 ग्राम सोयाबीन में 36।9 ग्राम प्रोटीन होता है। ये काफी हेल्दी ऑप्शन है।

पनीर
शाकाहारी लोगों को पनीर खूब पसंद होता है। पनीर (Desi cheese) से शरीर में प्रोटीन की कमी को भी पूरा किया जा सकता है। बच्चों को भी पनीर खूब पसंद होता है। आप अपनी डाइट में पनीर जरूर शामिल करें। इसके अलावा आप मावा, स्किम्ड मिल्क या दही भी खा सकते हैं।

दूध
दूध में सभी जरूरी पोषक तत्व (Nutrients) पाए जाते हैं बच्चों के लिए दूध को संपूर्ण आहार माना जाता है। दूध में प्रोटीन भी अच्छी मात्रा में होता है। आपको दिन में 1-2 गिलास दूध जरूरी पीना चाहिए। करीब 100 ग्राम दूध में 3।6 ग्राम प्रोटीन होता है। रोजाना दूध पीने से शरीर में प्रोटीन की कमी को पूरा करने में मदद मिलती है।

चिकन-
जो लोग नॉन वेजिटेरियन हैं उनके लिए प्रोटीन के कई ऑप्शन हैं। आप चिकन खा सकते हैं। चिकन को प्रोटीन का अच्छा सोर्स माना जाता है। ग्रिल्ड चिकन खाने से शरीर को काफी फायदा मिलता है।

मछली-
सीफूड में काफी मात्रा में प्रोटीन होता है। प्रोटीन के लिए मछली डाइट में शामिल कर सकते हैं। फिश में ओमेगा-3 फैटी एसिड, विटामिन ई और प्रोटीन अच्छी मात्रा में होता है। इसके अलावा मछली में कई दूसरे पोषक तत्व पाए जाते हैं।

मीट
नॉन वेज में चिकन-मटन दोनों में हाई प्रोटीन होता है। फिर चाहें आप किसी भी तरह का मीट खाते हों आपको प्रोटीन भरपूर मात्रा में मिलेगा। करीब 100 ग्राम मीट में 22.2 ग्राम प्रोटीन होता है।

नोट- उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सामान्‍य जानकारी के लिए हैं इन्‍हें किसी प्रोफेशनल डॉक्‍टर की सलाह के रूप में न समझें। कोई भी सवाल या परेंशानी हो तो डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें ।

Share:

Next Post

हम नहीं School भेजेंगे बच्चें को, पालकों ने कहा बच्चें की जान प्यारी

Sat Sep 18 , 2021
स्कूलों के वाट्सऐप ग्रुप पर आक्रोशित हुए घर के लोग यदि तबीयत बिगड़ेगी तो क्या स्कूल वाले लेंगे जवाबदारी उज्जैन। सोमवार से शासन ने कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों के स्कूल खोलने के आदेश तो जारी कर दिए लेकिन यह आदेश न केवल जानलेवा है बल्कि बच्चों को माता-पिता को नाराज करने वाला […]