विदेश

‘वो दो आंखें मुझे देख रही थीं’, खाने का सामान समझ शख्स खा गया चूहा, हुआ ऐसा हाल

मैड्रिड: किसी के लिए भी ये सबसे बुरा सपना होगा कि उसने खाने के धोखे में चूहा खा लिया. लेकिन ऐसा सच में स्पेन (Spain) में रहने वाले एक शख्स के साथ हो गया. शख्स ग्रॉसरी स्टोर से फ्रोजेन सब्जी (Frozen Vegetables) लेकर आया था. जब उसने सब्जी को खाया तो उसके मुंह में चूहा (Rat) आ गया. जैसे ही शख्स को कुछ कुरकुरा लगा उसने मुंह से खाना थूक दिया और देखा कि उसने चूहा खा लिया था.

मुंह से खाना उगला तो निकला चूहा
इंडिपेंडेंट में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, शख्स के खाने में चूहा निकला. शख्स ने कहा कि जब मैंने खाना मुंह से थूका तो चूहा मेरे मुंह से बाहर आकर गिरा. मैंने देखा कि चूहे की दो आंखें मुझे देख रही थीं. मेरे खाने में चूहे के शरीर का आधा हिस्सा था. हो सकता है कि चूहे का बाकी का हिस्सा फ्रोजेन सब्जी के किसी और पैकेट में हो.


मुंह में चूहा आने के बाद कई बार हुई उल्टी
शख्स ने बताया कि पहले प्लेट में रखे खाने को देखकर मुझे शक हुआ कि कुछ गड़बड़ है लेकिन फिर मैंने सोचा कि हो सकता है कि वो कुछ खाने का ही होगा. फिर मैंने उसे खा लिया. जैसे ही मुझे पता चला कि मैंने जो खाया वो चूहा था तो मेरा मूड खराब हो गया. उसके बाद मुझे कई बार उल्टी भी हुई. ये मेरी जिंदगी की अब तक की सबसे बुरी घटना है.

शख्स ने कंपनी से की गड़बड़ी की शिकायत
पीड़ित ने बताया कि फ्रोजेन सब्जी में चूहा निकलने की शिकायत उसने प्रोडक्ट की कंपनी से की है. मेरी चिंता ये है कि अगर मेरे पास चूहा के शरीर का ऊपरी भाग आया है तो दूसरा हिस्सा जरूर किसी और के पास गया होगा. किसी अन्य के साथ भी ऐसी घटना हो सकती है.

शख्स ने आगे कहा कि चूहा खाने वाली घटना के बाद से अभी भी मेरा कुछ भी खाने का मन नहीं कर रहा है. मैं सिर्फ दही खा रहा हूं. इसके अलावा मैं पानी और अन्य ड्रिंक ले रहा हूं. लेकिन अभी तक उसने दोबारा खाना नहीं खाया है. अच्छा हुआ कि मैं चूहा निगल नहीं गया वर्ना मैं बीमार पड़ सकता था. ये मेरे लिए खतरनाक साबित हो सकता था.

Share:

Next Post

ये पॉलिटिक्स है प्यारे

Mon Jan 3 , 2022
नेता बयानबाजी करते रहे, जमा हो गया जुर्माना रणजीत हनुमान मंदिर पर नगर निगम ने 30 हजार रुपए का जुर्माना लगाया। कारण बताया कि प्रभातफेरी के कारण लोगों ने गमले तोड़ दिए, इसलिए यह नोटिस दिया गया। छोटी-छोटी बातों पर धर्म की राजनीति करने वाले संगठन दुबके पड़े थे कि हिंदरक्षक संगठन के एकलव्य गौड़ […]