देश मध्‍यप्रदेश

लोकसभा चुनाव से पहले उमा भारती का अहम बयान, कहा- ‘पार्टी को जरूरत पड़ेगी तो मैं…’

भोपाल: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की पूर्व मुख्यमंत्री और मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री रहीं उमा भारती (Uma Bharti) ने आगामी लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) से पहले एक अहम बयान दिया है. लोकसभा चुनाव लड़ने के सवाल पर जवाब देते हुए उमा भारती ने कहा कि वो गंगा जी से जुड़े काम में अपना ध्यान लगाना चाहती हैं. उन्होंने कहा कि, गंगा जी को राजनीतिक द्वंद से परे रखना मेरा कर्तव्य है.

उमा भारती ने कहा “पार्टी को जरूरत पड़ेगी तो मैं चुनाव प्रचार में भाग लूंगी और चुनाव की समाप्ति होते ही नई सरकार के गठन के बाद सरकार एवं संगठन का सहयोग लेते हुए हम गंगा जी के कार्य का प्रारूप तय करेंगे. मैं इसमें सक्रिय होऊंगी. आज महाशिवरात्रि है. गंगा जी तो भगवान शिव को इतनी प्रिय हैं कि वह उनको अपने माथे पर धारण किए हुए हैं. उन गंगा जी के कार्य के लिए मैंने जो दो वर्ष पुनः देने का तय किया है, मैं गंगा जी का कार्य शक्तिशाली होकर निर्विघ्न करती रहूंगी.”


आप सभी लोग मुझे संबल प्रदान कीजिए- उमा भारती
इसके लिए आप सभी लोग मुझे संबल प्रदान कीजिए, शक्ति प्रदान कीजिए, मेरे लिए प्रार्थना करते रहिए. उन्होंने कहा कि मैंने एक न्यूज़ चैनल पर सुना कि मैं कह रही हूं कि मैं पीएम मोदी से भी ज्यादा वरिष्ठ हूं. आप पूरा ऑडियो वीडियो देख लीजिए. मैंने ऐसा वक्तव्य नहीं दिया. मैं खुद अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस की रिकॉर्डिंग करवाती हूं. मैंने तो यह कहा है कि मैं पार्टी की एक वरिष्ठ और सामर्थ्यवान कार्यकर्ता हूं. पीएम मोदी हमारे देश के प्रधानमंत्री हैं और वो एक अलौकिक व्यक्ति हैं.

उमा भारती ने कहा “1984 की दो सीटों से लेकर पार्टी को आज तक की स्थिति में लाने में जिन्होंने घोर तप किया उनमें से एक मैं भी हूं. मैनें 22 जनवरी को अयोध्या में ही यह जानकारी दे दी थी कि, जिस निश्चय से अशोक सिंघल ने रामलला के लिए काम किया, उसी निश्चय से मैं अब दो वर्ष और गंगा जी के लिए काम करूंगी. मैं गंगा जी के काम में इसलिए लगी हूं क्योंकि मुझे टिकट नहीं मिला, ऐसा इंप्रेशन क्रिएट करने से तो गंगा जी के कार्य का प्रभाव कम होगा और उनको बहुत नुकसान करेगा.”

Share:

Next Post

प्रॉपर्टी होने पर भी पति के आय से अधिक संपत्ति मामले में पत्नी नहीं हो सकती आरोपी, हाईकोर्ट का बड़ा फैसला

Fri Mar 8 , 2024
नई दिल्ली: ओडिशा हाई कोर्ट (Odisha High Court) ने आय से अधिक संपत्ति (disproportionate assets) के एक केस (Case) में बड़ा फैसला दिया है. कोर्ट ने माना है कि अगर कोई व्यक्ति (Person) आय से अधिक संपत्ति के लिए आपराधिक कार्यवाही का सामना कर रहा है, तो उसकी पत्नी (Wife) को सिर्फ इसलिए आरोपी नहीं […]