बड़ी खबर

बेटे से भी बुरा हाल करेंगे… सिद्धू मूसेवाला के पिता को लॉरेंस के गुर्गों की धमकी


चंडीगढ़: अपने बेटे सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद इंसाफ की लड़ाई लड़ रहे बलकौर सिंह को लॉरेंस गैंग के गुर्गों ने जान से मारने की धमकी दी है. इस बाबत मूसेवाला के पिता को लॉरेंस बिश्नोई की ओर से एक ई-मेल भेजी गई है. मेल में कहा गया है कि मूसेवाला के कातिल शूटर जगरूप रूपा और मनप्रीत मन्नू के एनकाउंटर की वजह मूसेवाला के पिता द्वारा प्रशासन और सरकार पर बनाया जा रहा दबाव है.

गैंगस्टरों ने धमकी दी है कि बलकौर सिंह लॉरेंस और जग्गू भगवानपुरिया की सिक्योरिटी पर अगर कुछ बोलेंगे तो उनका हाल बेटे से भी बुरा होगा. बहरहाल पुलिस इस ई-मेल की छानबीन में जुटी है. मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह बार-बार जेल में बंद गैंगस्टरों को दी जा रही सुरक्षा और सरकार की जांच पर सवाल उठा रहे हैं. यही नहीं पिता बलकौर सिंह ने इंसाफ न मिलने पर आंदोलन की भी चेतावनी दी है.


इस घटनाक्रम के बाद फर्जी पासपोर्ट पर विदेश भागे दो आरोपियों में से एक सचिन थापन की अजरबैजान में गिरफ्तारी के बाद उसके साथी अनमोल बिश्नोई को केन्या में गिरफ्तार कर लिया गया है. इसके बाद यह धमकी भरी मेल सोपू की ओर से मूसेवाला के पिता को भेजी गई है.

धमकी देते हुए गैंगस्टरों ने कहा कि ‘सुनो सिद्धू मूसेवाला के पिता, लॉरेंस, जग्गू भगवानपुरिया हमारे भाइयों की सुरक्षा को लेकर अगर कुछ बोला तो पता भी नहीं चलेगा. हम तुम्हें मारकर चले जाएंगे. तुम्हारे बेटे ने हमारे भाइयों को मरवाया और हमने बदले में तुम्हारे बेटे को मार डाला. मनप्रीत मन्नू और जगरूप रूपा का फेक एनकाउंटर तुम्हारे दबाव में हुआ है. सौ बात की एक बात तू ज्यादा बोला तो तेरा हाल तेरे बेटे से भी ज्यादा भयानक होगा.’

गौरतलब है कि मूसेवाला हत्याकांड में जैसे-जैसे गिरफ्तारियां होती जा रही हैं, गैंगस्टरों की परेशानियां ज्यादा बढ़ती जा रही हैं. नतीजन कुछ न करने की स्थिति में गैंगस्टर धमकियों पर उतर आए हैं.

Share:

Next Post

भारत आने पर सबसे पहले निजामुद्दीन दरगाह जाएंगी शेख हसीना, जुड़ी है पिता की याद

Fri Sep 2 , 2022
नई दिल्लीः बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना 5 से 8 सितंबर तक भारत दौरे पर रहेंगी. सोमवार को भारत पहुंचने पर सबसे पहले वह हजरत निजामुद्दीन दरगाह जाएंगी और वहां इबादत करेंगी. आपको बता दें कि बांग्लादेश की पीएम का निजामुद्दीन दरगाह से बहुत पुराना संबंध है. 15 अगस्त, 1975 को वर्तमान बांग्लादेशी प्रधानमंत्री के […]