देश बड़ी खबर

मानहानि केस: कोर्ट ने पत्रकार प्रिया रमानी को किया बरी, एमजे अकबर की याचिका खारिज

नई दिल्ली। दिल्ली की एक अदालत ने पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर की आपराधिक मानहानि की याचिका पर सुनवाई करते हुए पत्रकार प्रिया रमानी को आरोपों से बरी कर दिया है। साथ ही अदालत ने एमजे अकबर की याचिका भी खारिज कर दी।

रमानी ने अकबर के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे, जिसे लेकर अकबर ने उनके खिलाफ 15 अक्तूबर 2018 को मानहानिक का मामला दर्ज कराया था। अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट रवींद्र कुमार ने अकबर और रमानी के वकीलों की दलीलें पूरी होने के बाद एक फरवरी को अपना फैसला 10 फरवरी के लिए सुरक्षित रख लिया था। याचिका खारिज करने के बाद कोर्ट ने कहा कि महिला को 20 साल बाद भी उसके साथ हुए दुर्व्यवहार को बताने का हक है। फैसला आने के बाद ‘मी टू’ के ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए लिखा गया कि ‘वी वोन’, यानि हमलोग जीत गए।

क्या है मामला
रमानी का आरोप है कि अकबर ने करीब 20 साल पहले उनका यौन उत्पीड़न किया था, जब वह पत्रकार थीं। उनका दावा है कि उन्होंने अकबर के खिलाफ सोशल मीडिया पर 2018 में ‘मी टू’ मुहिम के मद्देनजर लगाए गए आरोपों के बारे में सच्चाई भलमनसाहत से बयां की है। उनकी मंशा जनहित से जुड़ी है और अपमानजनक नहीं है। अकबर ने रमानी द्वारा कथित मानहानि किए जाने को लेकर उनके खिलाफ यह शिकायत दायर की थी।

20 महिलाओं ने पूर्व मंत्री पर लगाए आरोप
अकबर ने 15 अक्तूबर, 2018 को रमानी के खिलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत दायर की थी। उन्होंने केंद्रीय मंत्री के पद से 17 अक्तूबर, 2018 को इस्तीफा दे दिया था। अकबर ने मीटू अभियान के दौरान उनपर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली सभी महिलाओं के आरोपों को खारिज किया है। करीब 20 महिलाओं ने पत्रकार के तौर पर अकबर के मातहत काम करने के दौरान उनका यौन उत्पीड़न करने का अकबर पर आरोप लगाया है।

Next Post

4 मार्च को हो सकता है फैसला, PF खाताधारकों को कितना मिलेगा ब्याज

Wed Feb 17 , 2021
नई दिल्ली। पीएफ खाताधारकों को जल्द बड़ी खबर मिलने वाली है। चालू वित्त वर्ष में कर्मचारियों को कितना ब्याज मिलेगा, इसका फैसला 4 मार्च को हो सकता है। इस दिन कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के ट्रस्टी बोर्ड की बैठक होने वाली है। ईपीएफओ के ट्रस्टी केई रघुनाथन ने कहा कि बैठक श्रीगर में चार मार्च […]