विदेश

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का अस्थायी सदस्य बनाते ही पाकिस्तान ने अलापा कश्मीर राग


इस्लामाबाद: पाकिस्तान (Pakistan) गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council) का अस्थायी सदस्य (temporary member) चुना गया। वह दो साल तक सुरक्षा परिषद का सदस्य बना रहेगा। उसका कार्यकाल 1 जनवरी 2025 को शुरू होगा। पाकिस्तान को 193 सदस्यीय महासभा में 182 वोट मिले – जो दो-तिहाई बहुमत का प्रतिनिधित्व करने वाले आवश्यक 124 वोटों से कहीं अधिक है। पाकिस्तान के साथ डेनमार्क (Denmark), ग्रीस (Greece), पनामा (Panama) और सोमालिया (Somalia) को भी सुरक्षा परिषद का अस्थायी सदस्य चुना गया है। नए सदस्य देशों का ऐलान संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष डेनिस फ्रांसिस ने किया। नए सदस्य देश जापान, इक्वाडोर, माल्टा, मोजाम्बिक और स्विटजरलैंड की जगह लेंगे, जिनका कार्यकाल 31 दिसंबर को समाप्त हो रहा है।


1 जनवरी से शुरू होगा कार्यकाल

पाकिस्तान 1 जनवरी, 2025 को जापान की जगह लेगा, जो वर्तमान में एशियाई सीट पर काबिज है, और अपना आठवां दो वर्षीय कार्यकाल शुरू करेगा। 15 सदस्यीय परिषद के सदस्य के रूप में पाकिस्तान की प्राथमिकताओं और लक्ष्यों के बारे में बोलते हुए, संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि मुनीर अकरम ने कहा कि देश का चुनाव “संयुक्त राष्ट्र चार्टर के उद्देश्यों और सिद्धांतों को बढ़ावा देने की पाकिस्तान की क्षमता में अंतरराष्ट्रीय समुदाय के विश्वास का प्रतिनिधित्व करता है।”

सात बार अस्थायी सदस्य रह चुका है पाकिस्तान

राजदूत अकरम ने कहा कि पाकिस्तान साझा उद्देश्यों को आगे बढ़ाने के लिए परिषद के अन्य सदस्य देशों के साथ सक्रिय रूप से काम करेगा। इस संबंध में, उन्होंने विशेष रूप से संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अनुरूप संघर्षों की रोकथाम और उनके शांतिपूर्ण समाधान में सार्थक योगदान देने की पाकिस्तान की महत्वाकांक्षा पर प्रकाश डाला। सुरक्षा परिषद में पाकिस्तान का पिछला कार्यकाल 2012-13, 2003-04, 1993-94, 1983-84, 1976-77, 1968-69 और 1952-53 था। पाकिस्तान सुरक्षा परिषद में ऐसे समय शामिल हो रहा है जब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उथल-पुथल और चुनौतियां हैं।

पाकिस्तान ने अलापा कश्मीर राग

सुरक्षा परिषद का सदस्य चुने जाते ही पाकिस्तान ने एक बार फिर कश्मीर राग अलापा। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि मुनीर अकरम ने अपनी प्राथमिकताओं को गिनाया, जिसमें दक्षिण एशिया में शांति और सुरक्षा को बढ़ावा देना, फिलिस्तीन और कश्मीर के लोगों के लिए आत्मनिर्णय के सिद्धांत को कायम रखना, अफगानिस्तान में सामान्यीकरण को बढ़ावा देना, अफ्रीका में सुरक्षा चुनौतियों के लिए न्यायसंगत समाधान को बढ़ावा देना, संयुक्त राष्ट्र शांति अभियानों की प्रभावशीलता को बढ़ाना शामिल है।

Share:

Next Post

डिंपल यादव सब पर भारी, अखिलेश-धर्मेंद्र सबको पछाड़ा; मैनपुरी में बना दिया रिकॉर्ड

Fri Jun 7 , 2024
लखनऊः समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव ने अपने परिवार के लोगों के मुकाबले अधिक वोटों से जीत हासिल की हैं. डिंपल यादव 2024 का लोकसभा चुनाव मैनपुरी से लड़ा था, जहां उनका मुकाबला भाजपा के उम्मीदवार जयवीर सिंह से था. एक तरफ डिंपल यादव को कुल 5 लाख 98 […]