जीवनशैली धर्म-ज्‍योतिष

शुक्रवार को करें ये खास उपाय, माता लक्ष्‍मी की बरसेगी कृपा, नहीं होगी धन की कमी

नई दिल्‍ली। हिंदू धर्म(Hindu Religion) की मान्यता के अनुसार शुक्रवार को माता लक्ष्मी का दिन माना जाता है. इस दिन जो भी भक्ति भाव से माता लक्ष्मी की पूजा करता है. उसके घर में सुख शांति (happiness peace) और धन की कभी कमी नहीं होती है. इसके अलावा घर की महिला को भी लक्ष्मी की उपाधि दी जाती है. जिस घर में महिला का सम्मान होता है. उस घर में मां लक्ष्मी स्वयं विराजमान रहती हैं.

शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी (mata lakshmi) की पूजा करने से मां प्रसन्न होती हैं और घर में धन का भंडार भर देती है. सुहागिन महिलाओं द्वारा शुक्रवार को माता लक्ष्मी की पूजा (Worship) करने पर उन्हें सदा सुहागिन होने का आशीर्वाद प्राप्त होता है.

शुक्रवार को करें ये उपाय (Shukrawar Upay)
शुक्रवार के दिन काली चीटियों को चीनी खिलाने से धन संबंधी बाधा दूर होती है. रुका हुआ कार्य संपन्न होता है और धन आगमन शुरू हो जाता है.


शुक्रवार (Friday) के दिन मंदिर में जाकर कमल का फूल, मखाना और बतासा माता लक्ष्मी के चरणों में चढ़ाएं. ऐसा करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और आपके घर में पैसा रुकने लगता है.

घर में सुख, शांति और संपन्नता बनाए रखना चाहते हैं तो अन्न का अपमान कभी न करें. शुक्रवार के दिन गरीबों को अन्न दान करने से माता लक्ष्मी की कृपा आपके परिवार पर हमेशा बनी रहेगी.

शुक्रवार के दिन घर की साफ सफाई करने के बाद घर में गंगाजल का छिड़काव करें. शाम के समय घर के बाहर घी का दीपक जलाएं. ऐसा करने से घर की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होगी और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा.

शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी को लाल बिंदी, चुनरी, चूड़ियों सहित सोलह सिंगार अर्पित करना चाहिए. इससे सौभाग्य की वृद्धि होती है साथ ही पति की लंबी उम्र होती है.

नोट- उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सिर्फ सामान्‍य सूचना के लिए हैं हम इसकी जांच या सत्‍यता की पुष्टि नहीं करते हैं. इन्‍हें अपनाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें.

Share:

Next Post

रूस-यूक्रेन युद्ध को आज चार महीने हुए पूरे, अब आने वाला है सबसे खतरनाक दौर !

Fri Jun 24 , 2022
नई दिल्‍ली । ‘युद्ध में जीत का मूलमंत्र है रफ्तार… शत्रु युद्ध के लिए तैयार न हो तो इस अवस्था का लाभ उठाएं. उस रास्ते से आगे बढ़ें दुश्मन को जिसकी भनक तक न हो. उन स्थानों पर सबसे पहले धावा बोलें जहां दुश्मन सुरक्षा की दृष्टि से सबसे कमजोर हो…’ युद्ध (war) पर ढाई […]