जीवनशैली विदेश

खुद को वर्जिन दिखाने लड़कियां कर रही ये काम, प्रतिबंध की मांग तेज

लंदन। इंग्लैंड (England) के बर्नले (burnley) में वर्जिनिटी टेस्ट (virginity test) का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. ब्रिटिश सांसद एंटनी हिगिनबॉथम(British MP Antony Higginbotham) और उनकी सहयोगी सारा ब्रिटक्लिफ (Sarah Britcliffe) एक क्रॉस-पार्टी गठबंधन में शामिल हो गए हैं. ये सांसद लगातार हाइमन रिपेयर सर्जरी को गैरकानूनी घोषित करने की मांग कर रहे हैं. फिलहाल यहां पर ‘वर्जिनिटी टेस्ट’ (virginity test) और हाइमन ‘रिपेयर’ सर्जरी (Hymen ‘repair’ surgery) या हायमेनोप्लास्टी (hymenoplasty) दोनों ही कानूनी हैं.


UK में डॉक्टर्स ‘वर्जिनिटी चेक’ या फिर इसे ‘रिस्टोर’ करने का काम करते हैं. आमतौर पर लड़कियां अरेंज मैरिज से पहले ये काम करवाती हैं. हिगिनबॉथम और मिस ब्रिटक्लिफ उन 51 सांसदों में शामिल हैं, जिन्होंने सांसद रिचर्ड होल्डन द्वारा पेश किए गए इन दो प्रथाओं पर प्रतिबंध लगाने के लिए हेल्थ एंड केयर बिल पर हस्ताक्षर किए.
हिगिनबॉथम ने कहा, ‘महिलाओं और लड़कियों को ‘शादी की पहली रात ब्लीडिंग होने ही चाहिए’ वाली धारणा से खुद को मुक्त करना होगा. इन दर्दनाक प्रथाओं का मेडिकल साइंस में कोई आधार नहीं है. ऐसी प्रथाएं महिलाओं को सिर्फ नुकसान पहुंचाती हैं और ‘पवित्रता’ के खतरनाक मिथक बनाती हैं. हमें ‘वर्जिनिटी टेस्टिंग’ और हाइमन ‘रिपेयर’ सर्जरी दोनों को रोकने के लिए तुरंत कदम उठाने चाहिए. मैं सरकार से महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ इस हिंसा समाप्त करने की अपील करता हूं.’
बिल पर हिगिनबॉथम और ब्रिटक्लिफ की तरफ से मिल रहे सहयोग पर होल्डन ने खुशी जताई है. उन्होंने कहा, ‘हेल्थ एंड सोशल केयर बिल इन कुप्रथाओं पर प्रतिबंध लगाने का सबसे अच्छा अवसर है. महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा से निपटने के लिए सभी का साथ आना बहुत अच्छा है.’
वहीं रॉयल कॉलेज ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट्स एसोसिएशन का कहना है कि यहां महिलाओं को इस तरह प्रक्रियाओं को अपनाने के लिए दबाव डाला जाता है या फिर वो खुद मजबूरी में इस तरह के कदम उठाती है. उन पर इस बात का दबाव रहता है कि वो अपनी शादी की रात ब्लीड करें ताकि अपने पति के सामने वो कुंवारी साबित हो सकें. एसोसिशन ने भी ब्रिटेन में वर्जेनिटी टेस्टिंग और हायमेनोप्लास्टी पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है.

Share:

Next Post

SC ने की उच्च न्यायालयों में एक बार में सबसे बड़े फेरबदल की सिफारिश, 41 जजों का नाम शामिल

Sat Sep 18 , 2021
नई दिल्ली। भारत के प्रधान न्यायाधीश एनवी रमन्ना (Justice NV Ramana) की अगुवाई में सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम (Supreme Court Collegium) ने शुक्रवार को उच्च न्यायालयों के 41 न्यायाधीशों की भूमिका में बदलाव की सिफारिश की है. कहा जा रहा है कि ऐसा पहली बार हुआ है, जब सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने एक बार में […]