बड़ी खबर

तोशाखाना केस में तीन साल जेल की सजा सुनाए जाने के तुरंत बाद इमरान खान लाहौर से गिरफ्तार


इस्लामाबाद । पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री (Former Prime Minister of Pakistan) इमरान खान (Imran Khan) को तोशाखाना मामले में (In Toshakhana Case) तीन साल जेल की सजा सुनाए जाने के तुरंत बाद (Soon after being Sentenced to Three Years) शनिवार को लाहौर के जमां पार्क स्थित उनके आवास से (From His Residence in Zaman Park Lahore) गिरफ्तार कर लिया गया (Arrested) ।


जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक एक जिला और सत्र अदालत ने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष को तोशाखाना मामले में दोषी ठहराया और तीन साल जेल की सजा सुनाई। इस दौरान इमरान खान के मामले को अस्वीकार करने की मांग से संबंधित याचिका को अदालत ने खारिज कर दिया। अतिरिक्त और सत्र न्यायाधीश हुमायूं दिलावर ने पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को तीन साल की कैद की सजा सुनाई। उन्होंने अपने फैसले में कहा कि पीटीआई अध्यक्ष के खिलाफ संपत्ति की गलत घोषणा के आरोप साबित हुए हैं।

इसके बाद उन्होंने इमरान खान की गिरफ्तारी वारंट जारी करते हुए तीन साल की जेल और 1,00,000 पीकेआर का जुर्माना भी लगाया। जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने राज्य उपहार भंडार से लिए गए उपहारों की कथित गलत घोषणा से संबंधित तोशखाना मामले को सुप्रीम कोर्ट और इस्लामाबाद उच्च न्यायालय (आईएचसी) सहित कई मंचों पर चुनौती दी थी।

तोशाखाने का मतलब ऐसे कमरे से है जहां अमीरों के कपड़े, गहने और महंगी चीजें जैसे कि उपहार आदि संभालकर रखे जाते हैं। पाकिस्तान में सरकार के संग्रहस्थान को तोशाखाना नाम दिया गया है। पाकिस्तान के कानून के मुताबिक, विदेशों से या विदेशी मेहमानों से मिले उपहारों को इसी तोशाखाने में जमा कर दिया जाता है। प्रधानमंत्री अगर उपहार अपने पास रखना चाहे तो उसे उसका मूल्य चुकाना होगा। इन उपहारों की नीलामी भी की जा सकती है. नीलामी से अर्जित धन सरकारी खजाने में ही जाएगा। कुल मिलाकर प्रधानमंत्री को मिले उपहार राष्ट्र की संपत्ति हैं।

इमरान को प्रधानमंत्री रहते हुए उनकी विदेश यात्राओं या किसी प्रकार की आधिकारिक यात्रा के दौरान करीब साढ़ 14 करोड़ रुपये के ऐसे उपहार मिले थे। उपहारों को तोशाखाने में जमा भी कर दिया गया था. आरोप है कि इमरान खान ने तोशाखाने में जमा किए उपहारों को सस्ते में (2.15 करोड़ रुपये में) खरीद लिया और फिर ज्यादा कीमत में बाजार में उन्हें बेच दिया और पांच करोड़ रुपये से ज्यादा धन मुनाफे के तौर कमा लिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन उपहारों में एक ग्राफ घड़ी, एक जोड़ा कफलिंक, एक कीमती पेन, एक अंगूठी और रोलेक्स की चार घड़ियां भी शामिल थीं. यह भी आरोप है कि इमरान ने इस पूरे काम को अंजाम देने के लिए सरकारी कानून में परिवर्तन भी किया।

Share:

Next Post

राहुल गांधी की सजा पर रोक लगाने वाला सुप्रीम कोर्ट का आदेश सौंपने के लिए ओम बिरला से मिलेंगे अधीर रंजन चौधरी

Sat Aug 5 , 2023
नई दिल्ली । लोकसभा में कांग्रेस के नेता (Leader of Congress in Lok Sabha) अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhary) राहुल गांधी की सजा पर रोक लगाने वाला (Staying the Sentence of Rahul Gandhi) सुप्रीम कोर्ट का आदेश (Supreme Court Order) सौंपने के लिए (To Handover) स्पीकर ओम बिरला (Speaker Om Birla) से मिलेंगे (Will […]