बड़ी खबर राजनीति

ओवैसी के घर में मोदी-शाह हैं लोगों की पसंद, AIMIM को पीछे छोड़ भाजपा ने बजाया जीत का डंका

हैदराबाद । देश के सबसे बड़े नगर निगम में से एक ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (Greater Hyderabad Municipal Corporation) के चुनाव में बीजेपी (BJP) ने जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए 49 सीटों पर जीत हासिल की है. वहीं, केसीआर (KCR) की पार्टी टीआरएस को 56 और असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM को 43 सीटों पर जीत मिली. हालांकि, इस बार किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला है. 150 वार्डों वाले ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम में बहुमत का आंकड़ा 75 है.

बीजेपी की जीत पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया है. उन्होंने कहा कि तेलंगाना की जनता ने पीएम मोदी पर भरोसा जताया. तेलंगाना की जनता का आभार. आपको बता दें इस चुनाव के लिए बीजेपी ने पूरी ताकत लगा दी थी. अमित शाह और योगी आदित्यनाथ जैसे बीजेपी के स्टार प्रचारकों ने निगम के चुनाव में पार्टी के लिए प्रचार किया था. दोनों ही नेताओं ने हैदराबाद में रोड शो किया था और असदुद्दीन ओवैसी पर जमकर निशाना साधा था.

भाजपा कभी सबसे पीछे रहनेवाली आज दूसरे नंबर पर
नगर निगम के चुनाव में बीजेपी बाजीगर बनकर उभरी है. इस शानदार जीत के बाद सवाल उठता है कि क्या दक्षिण के दुर्ग का दूसरा दरवाजा बीजेपी के लिए जल्द ही खुलनेवाला है. क्या कर्नाटक के बाद बीजेपी दक्षिण के दूसरे राज्यों में भी सत्ता के शिखर पर पहुंचने में कामयाब हो जाएगी. चुनाव तो वैसे नगर निगम का था लेकिन रोमांच किसी लोकसभा-विधानसभा चुनाव से कम नहीं. बीजेपी ने ताकत झोंकी तो नतीजे भी गवाही देने लगे. दक्षिण के दुर्ग में दूसरा दरवाजा खोलने की बीजेपी की रणनीति काम कर गई.

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम का सियासी रसूख ही कुछ ऐसा है कि इस दुर्ग में जगह बनाना बीजेपी के लिए जरुरी था. यह नगर निगम 4 जिलों में है, जिनमें हैदराबाद, मेडचल-मलकजगिरी, रंगारेड्डी और संगारेड्डी शामिल हैं. पूरे इलाके में 24 विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं तो तेलंगाना की 5 लोकसभा सीटें आती हैं.

यही वजह है कि ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में केसीआर से लेकर बीजेपी, कांग्रेस और असदुद्दीन ओवैसी तक ने दिन रात एक कर दिया, लेकिन पिछली बार हाशिये पर खड़ी बीजेपी ने इस बार कमाल कर दिया. बीजेपी के शानदार परफॉर्मेंस का असर ये होगा कि दक्षिण में कर्नाटक के बाद तेलंगाना, तमिलनाडु और केरल में पैर पसारने में बीजेपी को राहत रहेगी जहां बीजेपी अबतक कामयाबी के लिए बरसों से जी-तोड़ मेहनत कर रही है.

केसीआर हुई कमजोर
जश्न भले ही टीआरएस खेमे में है लेकिन झटका भी उसे ही लगा है. ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में केसीआर की पार्टी वैसे तो सबसे बड़े प्लेयर बनकर उभरी है लेकिन चुनाव ओवैसी बनाम बीजेपी हो गया. बीजेपी ने इस चुनाव के जरिए दक्षिण के सियासी समंदर की गहराई नापी. वहां की फिजां में लोगों का मूड भांपा. दक्षिण भारत में लोकतांत्रिक विस्तार का तापमान जाना. चुनाव प्रचार में ही ओवैसी और बीजेपी जिस तरह एक दूसरे पर प्रहार कर रहे थे उससे लगने लगा था कि टीआरएस के लिए इस बार बहुमत हासिल करना आसान नहीं होगा. ओवैसी ने अपनी जमीन तो बचा ली लेकिन केसीआर का किला ध्वस्त हो गया.

गौरतलब है कि ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (GHMC) देश के सबसे बड़े नगर निगमों में से एक है. यह नगर निगम 4 जिलों में है, जिनमें हैदराबाद, मेडचल-मलकजगिरी, रंगारेड्डी और संगारेड्डी शामिल हैं. पूरे इलाके में 24 विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं तो तेलंगाना की 5 लोकससभा सीटें आती हैं. यही वजह है कि ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में केसीआर से लेकर बीजेपी, कांग्रेस और असदुद्दीन ओवैसी तक की साख दांव पर लगी हुई है.

इस बार 46.55% मतदान हुआ. 2009 के हैदराबाद नगर निगम चुनाव में 42.04 फीसदी तो 2016 में हुई नगर निगम चुनाव में 45.29 फीसदी लोगों ने ही वोट डाले थे. हालांकि पिछले 2 चुनाव से ज्यादा इस बार वोटिंग दर्ज की गई. 2016 में हुए ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव की बात करें तो टीआरएस ने 150 वार्डों में से 99 वार्ड में जीत हासिल की थी, जबकि असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM को 44 वार्ड में जीत मिली थी. जबकि बीजेपी महज तीन नगर निगम वार्ड में जीत दर्ज कर सकी थी और कांग्रेस को महज दो वार्डों में ही जीत मिली थी.

Share:

Next Post

कोरोना संक्रमण से उबरे लुइस सुआरेज, टीम के साथ प्रशिक्षण पर लौटने के लिए तैयार

Sat Dec 5 , 2020
मैड्रिड। एटलेटिको मैड्रिड के स्टार फुटबॉलर लुइस सुआरेज कोरोना वायरस से उबर चुके हैं और प्रशिक्षण पर लौटने के लिए तैयार हैं। क्लब ने उक्त जानकारी दी। क्लब ने एक बयान में कहा, “लुइस सुआरेज़ का ला लीगा के आधिकारिक पीसीआर परीक्षण में कोविड 19 टेस्ट नकारात्मक आया है। जिसके बाद वह प्रशिक्षण सत्र में […]